आज है साल का आखिरी सूर्य ग्रहण, जान लीजिए सही समय

जनादेश/नई दिल्ली : जहां एक तरफ कल दीवाली का त्यौहार खत्म हुआ है वहीं अब साल के आखिरी सूर्य ग्रहण पर सबकी नजर है। भारत के अलावा अन्य देशों में भी सूर्य ग्रहण को लेकर खास चर्चा की जा रही है। लेकिन ग्रहण का सही समय क्या है इसमें सब विचलित है। दरअसल ग्रहण पड़ने का सबसे पहले आइसलैंड में समय दोपहर 2 बजकर 29 मिनट पर शुरू होगा, जो शाम 6 बजकर 20 मिनट पर अरब सागर में खत्म होगा।

तो वहीं भारत में यह सूर्य ग्रहण शाम करीब 4 बजकर 29 मिनट से शुरू होकर शाम 6 बजकर 9 मिनट पर खत्म हो जाएगा। हालांकि ये ग्रहण भारत देश में कुछ जगहों पर नजर आएगा और सूतक काल भी प्रभावी होगा। इस खगोलीय घटना को लेकर ज्‍योतिषविदों की अपनी मान्‍यताएं हैं। लेकिन सूर्य ग्रहण या चंद्र ग्रहण को धार्मिक मान्‍यताओं के हिसाब से अशुभ माना जाता है।

वहीं दुसरी ओर वैज्ञानिक दृष्‍टिकोण से ग्रहण काे एक विशेष खगोलीय घटना के रूप में देखा जाता है। इस सूतक काल पर पंडित-पुरोहितों की खास नजर होती है। गर्भवती महिलाओं को ग्रहण काल में खास एहतियात बरतने को कहा जाता है। और बुजुर्ग और बच्‍चों को भी ग्रहण के दौरान सावधानी बरतने की हिदायत दी जाती है। हालांकि आज मंगलवार को सूर्य ग्रहण 2022 शाम 4 बजकर 29 मिनट से शुरू होगा।

जानकारी के लिए बता दें कि जब चंद्रमा सूर्य को पूरी तरह से ढंक लेता है, तो इसे ग्रहण कहा जाता है। ज्‍योतिषियों के अनुसार भारत में ग्रहण दिखने पर ही सूतक काल को प्रभावी माना जाता है। अक्‍टूबर माह में सूर्य ग्रहण 25 तारीख को शाम साढ़े चार बजे से लगने जा रहा है। जबकि इस साल 30 अप्रैल को पहला सूर्यग्रहण 2022 लग चुका है।

बता दें कि देश-दुनिया में ग्रहण के असर से अशुभ की आशंका भी जताई जा रही है। ग्रहण का सूतक काल मान्य है। क्‍योंकि आम जनजीवन के लिए शुभ नहीं माना जाता।

ऐसे लगता है सूर्य ग्रहण

चंद्रमा जब सूर्य को आंशिक या फिर पूरी तरह ढंक देता है और सूर्य की किरणें धरती तक नहीं पहुंच पाती। ऐसे में आकाश में होने वाली इस विशेष खगोलीय घटना को ही सूर्य ग्रहण का नाम दिया जाता है। यदि चंद्रमा सूर्य के मध्य भाग को ढंकता है, तो सूर्य एक अंगूठी की तरह दिखने लगता है, जिसे विज्ञान की भाषा में वलयाकार सूर्य ग्रहण 2022 कहते हैं।