हाईमास्ट लाइट लगाने के टेंडर निरस्त करने की प्रक्रिया हुई शुरू

जनादेश/ऋषिकेश: नगर निगम क्षेत्र में लगने वाली हाईमास्ट लाइट के टेंडर को निरस्त करने की प्रक्रिया शुरू हो गई है।मेयर ने बताया कि टेंडर में पास हाईमास्ट लाइट के रेट काफी अधिक थे।इसलिए इस टेंडर को निरस्त करने के लिए लिख दिया गया है।
नगर निगम क्षेत्र के वार्डों में हाईमास्ट लाइट लगाने की प्रक्रिया को काफी समय पहले शुरू किया जा चुका था। हाल ही में हाईमास्ट लाइट की टेंडर प्रक्रिया को भी पूरा किया जा चुका था।

मेयर अनिता शर्मा ने बताया कि टेंडर प्रक्रिया में पांच लाख से अधिक की हाईमास्ट लाइट को पास किया गया।बताया कि टेंडर में तय रेट से दो लाख कम में हाईमास्ट लाइट मिल रही थी।मेयर ने बताया कि रेट में इतना अधिक अंतर होने के बाद कांग्रेस और भाजपा के पार्षदों के साथ बैठक की गई।जिसमें नगर आयुक्त भी शामिल हुए।मेयर ने कहा कि हाईमास्ट लाइट के लिए री-टेंडर प्रक्रिया को शुरू किया जाएगा।जिस कंपनी ने कम रेट दिए हैं उसे भी इस टेंडर प्रक्रिया में शामिल करने को कहा जाएगा।बैठक में उक्त टेंडर प्रक्रिया को निरस्त कर नए री-टेंडर प्रक्रिया को शुरू करने की बात कही गई।बैठक में भाजपा और कांग्रेस दोनों दलों के पार्षद मौजूद रहे। जबकि बैठक खत्म होने के बाद भाजपा पार्षदों के दल ने नगर आयुक्त को इस विषय पर अपना ज्ञापन सौंपा।मांग करने वाले भाजपा पार्षदों में नेता प्रतिपक्ष सुनील अग्रवाल, शुभम मंदौला, अनिरुद्ध भाटी, राजेश शर्मा, विनित जौली, नितिन शर्मा, सचिन अग्रवाल, प्रशांत सैनी आदि मौजूद रहे। वहीं नगर आयुक्त दयानंद सरस्वती ने कहा कि मेयर के कैंप कार्यालय में हुई बैठक में मैं गया था।जिसमें हाईमास्ट लाइट के रेट को लेकर सवाल उठाए गए हैं. टेंडर प्रक्रिया की पत्रावली की जांच की जाएगी।