प्रयागराज में एक ही परिवार के तीन लोगों की निर्मम हत्‍या,गांव में सनसनी

किशोरी व माता-पिता का रेता गला,जांच मे जुटी पुलिस , सीएम योगी ने की वारदात की निंदा

प्रयागराजः उत्तर प्रदेश के प्रयागराज में लॉकडाउन के बीच गुरूवार की सुबह त्रिपल मर्डर केस का  सनसनीखेज मामला सामने आया हा।यहां मांड़ा गांव में एक ही परिवार की तीन लोगों की गला रेतकर हत्या कर दी गई है। सुबह घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस प्रशासन में हड़कंप मचा गया। तिहरे हत्याकांड से गांव में दहशत का माहौल है। घटनास्थल पर फील्ड यूनिट के साथ ही डॉग स्क्वॉड की टीम पहुंच गई है और जांच पड़ताल की जा रही है।वहीं सीएम योगी ने भी मामले की निंदा की है.

जानकारी के अनुसार मांडा थाना इलाके के आंधी गांव के थोड़ा बाहर खेत में मकान बनवाकर 50 वर्षीय नंदलाल यादव परिवार के साथ रहते थे। जबकि उनका गांव में ही पुराना भी घर है। बुधवार की रात नंदलाल, उनकी 48 वर्षीय पत्‍नी छबीला देवी, 16 वर्षीय पुत्री राज दुलारी और उसका पुत्र राम बहादुर खाना राम बहादुर गांव स्थित पुराने घर में सोने चला गया। नंदलाल खेत में बोई मूंग की फसल की रखवाली करने खेत में चले गए। छबीला देवी घर के दरवाजे के बाहर सो गई, जबकि राज दुलारी घर के अंदर सो रही थी। रात में किसी समय हत्‍यारों ने धारदार हथियार से नंदलाल, छबीला देवी और राज दुलारी की हत्‍या कर दी।

सुबह जानकारी होने पर परिवार के अन्‍य सदस्‍य व ग्रामीण अवाक रह गए। घर के कमरे में बक्से और कुछ सामान बिखरे थे। ऐसे में पुलिस जांच कर रही है कि हत्या के पीछे लूटपाट है या पुलिस को गुमराह करने के लिए ऐसा सीन बनाया गया है। पुलिस ने धमकी देकर मायके जाने वाली बहू पर शक जताया था, मगर उससे पूछताछ के बाद और पुलिस मान रही है कि उसका इस घटना में हाथ नहीं है। उधर हत्‍या की सूचना पर पुलिस ने पहुंच कर जांच-पड़ताल की। कुछ संदिग्ध लोगों को हिरासत में लेकर पूछताछ की जा रही है। अभी कातिलों के बारे में कोई खास जानकारी नहीं मिल पाई है।
क्राइम ब्रांच और एसओजी यमुनापार मौके पर छानबीन कर रही है। तीनों लोग घर के बाहर सो रहे थे इसलिए लूटपाट जैसी कोई बात नहीं है। आइजी रेंज भी बाद में पहुंचे और मातहतों से कातिलों को शीघ्र पकड़ने के साथ ही अन्‍य आवश्‍यक निर्देश भी दिया। फिलहाल हत्या के कारणों का पता नहीं चल सका है लेकिन घटनाओं से गांव में जबरदस्त आक्रोश है। लोग पुलिस अधिकारियों के वाहनों के सामने धरने पर बैठ गए थे।

आईजी केपी सिंह ने बताया कि गुरुवार को सुबह 5 बजकर 50 मिनट पर इस घटना की जानकारी पुलिस को दी गई जिसके बाद फरेंसिक की टीम, श्वान दस्ता और अपराध शाखा के अधिकारी घटनास्थल पर पहुंचे और सबूत जुटा रहे हैं। उन्होंने बताया कि इस घटना के पीछे की वजह पारिवारिक विवाद भी हो सकता है। सभी पहलुओं से घटना की जांच की जा रही है। शवों को पोस्टमार्टम के लिए भेजा जा रहा है।