तंजावुर हादसे में जान गंवाने वालों को तमिलनाडु विधानसभा ने दी श्रद्धांजलि

जनादेश/तंजावुर: तमिलनाडु विधानसभा में तंजावुर करंट हादसे के शिकार लोगों के लिए बुधवार को दो मिनट का मौन रखा गया। तंजावुर में करंट लगने के कारण हुए हादसे में 11 लोगों की जान चली गई और कई घायल हैं। मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने कहा, ‘मैं तंजावुर जाऊंगा ओर वहां पीड़ितों के परिवार से मुलाकात करूंगा।’ तमिलनाडु के तंजावुर स्थित अप्पर स्वामी मंदिर में निकाली जा रही रथ यात्रा के दौरान आज यह हादसा हुआ है।

मामले में FIR दर्ज करने के बाद जांच शुरू कर दी गई है। तिरुची रेंज के इंस्पेक्टर जनरल ने कहा, ‘कुल 11 लोग हादसे में मारे गए हैं। तीन लोगों की मौके पर ही मौत हो गई और बाकियों ने अस्पताल में दम तोड़ दिया। 15 लोग जख्मी हैं और उन्हें इलाज के लिए तंजावुर मेडिकल कालेज ले जाया गया है। मामले में FIR दर्ज हो गई है और जांच भी शुरू है।’ पुलिस अधिकारी ने बताया कि हाई वोल्टेज पावर लाइन के संपर्क में रथ के आने से यह घटना घटी और आग लग गई।’

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने तमिलनाडु हादसे पर शोक जताया है। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘तंजावुर हादसे से दुखी हूं। इस दुख की घड़ी में पीड़ित परिवारों के साथ मेरी सहानुभूति है।’ प्रधानमंत्री ने पीएम राष्ट्रीय राहत कोष से मृतक के परिवार के लिए दो-दो लाख रुपये घायलों के लिए 50,000 रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है। इस क्रम में राष्ट्रपति कोविंद ने भी ट्वीट कर श्रद्धांजलि दी। उन्होंने कहा, ‘तंजावुर में रथ यात्रा के दौरान करंट लगने से 11 लोगों की मौत हो गई। इसमें बच्चे भी शामिल हैं। पीड़ितों के लिए मेरी गहरी संवेदना है।’