पंजाब में सामने आए अजीबोगरीब रुझान

जनादेश/चंडीगढ़: पंजाब में विधानसभा चुनाव को लेकर कड़ी सुरक्षा के बीच मतगणना जारी है। इस बीच एक बड़ी जानकारी सामने आ रही है। पंजाब में सत्ता हमेशा कांग्रेस और अकाली दल के इर्द-गिर्द घूमती रही है, लेकिन इस बार वह बिखर गई है। इसके साथ ही सभी पूर्व और वर्तमान मुख्यमंत्री अपनी-अपनी सीटों पर पिछड़ रहे हैं। शुरुआती रुझानों में आम आदमी पार्टी ने एकतरफा बढ़त के साथ बहुमत का आंकड़ा पार कर लिया है।

रुझानों में पिछड़ गए कद्दावर नेता

आपको बता दें कि पूर्व मुख्यमंत्री और अकाली दल के कद्दावर नेता प्रकाश सिंह बादल लांबी सीट से पीछे चल रहे हैं। प्रकाश सिंह बादल उन नेताओं में से हैं जो सबसे ज्यादा उम्र दराज होने के बावजूद चुनावी मैदान में थे। उनकी उम्र 94 वर्ष है। वहीं पूर्व मुख्यमंत्री और पंजाब लोक कांग्रेस प्रमुख अमरिंदर सिंह पटियाला सीट से पीछे चल रहे हैं। जबकि मौजूदा मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी चमकौर साहिब और भदौड़ दोनों ही सीट पर आम आदमी प्रत्याशियों से पिछड़ गए हैं।

अधिकारियों ने बताया कि राज्य में 66 स्थानों पर बनाए गए मतगणना केंद्रों पर करीब 7500 कर्मी और केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की 45 टुकड़ियां तैनात की गयी हैं। मतगणना के मद्देनजर सभी जिलों में धारा 144 के तहत निषेधाज्ञा लगा दी गयी है और मतगणना केन्द्रों के बाहर लोगों के एकत्र होने पर पाबंदी है। विधानसभा चुनाव के लिए मतदान 20 फरवरी को हुआ था। राज्य में इस बार अरविंद केजरीवाल की अगुवाई वाली आम आदमी पार्टी एक प्रमुख दावेदार के रूप में उभरी है, जबकि कांग्रेस बहुकोणीय मुकाबले में सत्ता बरकरार रखने की कोशिश कर रही है।