ज्ञानवापी परिसर के अंदर मिला शिवलिंग, जगह को सील करने के निर्देश

जनादेश/वाराणसी: ज्ञानवापी मामले में अब एक नया मोड़ आ गया है, जहां सर्वे के दौरान ज्ञानवापी मस्जिद के अंदर शिवलिंग मिला है। इस मामले में वाराणसी कोर्ट ने डीएम को आदेश दिए है कि शिवलिंग मिलने वाली जगह को तत्काल सील कर दें। साथ ही वहां किसी भी व्यक्ति का प्रवेश वर्जित किया जाए। कोर्ट ने ये आदेश डीएम, पुलिस कमिश्नर और सीआरपीएफ कमांडेंट को दिया है। तो वहीं कोर्ट ने अधिकारियों को जगहों को सुरक्षित रखने की व्यक्तिगत तौर पर जिम्मेदारी दी है।

दरअसल, ज्ञानवापी में सर्वे के लिए तीसरे दिन टीम गई थी। बताया जा रहा है कि वहां टीम को शिवलिंग नजर आया। सर्वे टीम में शामिल हिंदू पक्ष के वकील हरिशंकर जैन ने तुरंत वाराणसी कोर्ट में एप्लीकेशन दी। इसमें कोर्ट को बताया गया कि वहां पर शिवलिंग मिला है। यह बहुत ही महत्वपूर्ण साक्ष्य हैं। सीआरपीएफ कमांडेंट को उस जगह को सील करने का आदेश देने की मांग की गई। सीनियर डिवीजन के जज रवि कुमार दिवाकर ने तुरंत डीएम को उस जगह को सील करने का आदेश दिया है।

इससे पहले वाराणसी में ज्ञानवापी परिसर का सर्वे तीसरे दिन सोमवार को पूरा हो गया। सर्वे के बाद हिंदू पक्ष के पैरोकार डॉ. सोहनलाल ने बड़ा दावा किया। उन्होने कहा, ‘अंदर बाबा मिल गए… जिन खोजा तिन पाइयां। तो समझिए, जो कुछ खोजा जा रहा था, उससे कहीं अधिक मिला है। अब पश्चिमी दीवार के पास जो 75 फीट लंबा, 30 फीट चौड़ा और 15 फीट ऊंचा मलबा है, उसके सर्वे की मांग उठाएंगे।’

सर्वे के पहले दिन यानी 14 मई को ज्ञानवापी परिसर के 50% हिस्से का सर्वे हुआ था। उस दिन 4 घंटे के सर्वे के दौरान 4 तहखानों को खोला गया था। तहखानों की साफ-सफाई कराई। इसके बाद टीम ने उसकी वीडियोग्राफी करवाई। दीवारों की नक्काशी चेक की। दूसरे दिन 15 मई को परिसर का 30% और सर्वे हुआ। इस दिन भी 4 घंटे सर्वे हुआ था। ज्ञानवापी परिसर के ऊपरी बने हुए कमरों, गुंबद, छत और दीवारों की वीडियोग्राफी कराई गई थी। इसके अलावा, दरवाजों की नक्काशी का भी हाई लैंस वाले कैमरे से पिक्चर ली गई थी।