मनोरंजन से भरी है शाहरुख खान की फिल्म पठान , लेकिन क्या है उदेश्य ?

जनादेश/दिल्ली: बॉलीवुड एक्शन में सिद्धार्थ आनंद की नई फ़िल्म पठान के एक दृश्य में, पाकिस्तानी आईएसआई जासूस रुबीना मोहसिन (दीपिका पादुकोण) भारतीय खुफिया एजेंसी रॉ (रिसर्च एंड एनालिसिस विंग) एजेंट पठान (शाहरुख खान) से सवाल करती है कि क्या आप मुस्लिम हैं?

इसके जवाब में पठान कहता है कि नहीं मालूम क्योंकि वह अनाथ है और उसके माता-पिता उसे एक सिनेमा हॉल में छोड़ गए थे।

यह जवाब भले ही फ़िल्मी कहानी जैसी हो लेकिन इसके कुछ गहरे संदेश भी हैं।

दरअसल, बॉलीवुड की फ़िल्मों के लिए बॉक्स ऑफ़िस पर कमाई से बड़ा कोई धर्म नहीं है। भारतीय हिंदी फ़िल्म इंडस्ट्री की गिनती देश के धर्मनिरपेक्ष और रचानात्मक संस्थानों में होती है।

पिछले कुछ सालों में जिस तरह से समाज में बदलाव हुआ है, उसका असर फ़िल्मों पर भी हुआ है। फ़िल्मों का भी ध्रुवीकरण हुआ है।