उत्तराखंड में ग्रीन जोन में 17 मई के बाद खुलेगें स्कूल, शिक्षा मंत्री ने दिए निर्देश

उच्च शिक्षा मंत्री रावत ने प्राचार्यों संग की सात बिंदुओं पर चर्चा, पढाई को लेकर मांगे सुझाव

देहरादून-  उच्च शिक्षा (स्वतंत्र प्रभार) राज्य मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने आज प्रदेश के समस्त राजकीय एवं अशासकीय महाविद्यालयों के प्राचार्यों से वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये वार्ता की। इस दौरान उच्च शिक्षा मंत्री डॉ रावत ने प्राचार्यों से सात बिंदुओं पर चर्चा की और इन पर सभी से लिखित सुझाव भी मांगे। इसके साथ ही प्रचार्यों ने उच्च शिक्षा मंत्री से ग्रीन जोन में लॉक डाउन (17 मई) के बाद महाविद्यालय खोले जाने की बात कही।

दून विश्वविद्यालय परिसर स्थित रूसा कार्यालय के अंतर्गत एडुसेट सेंटर (वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग) से उच्च शिक्षा मंत्री डॉ धन सिंह रावत ने सभी राजकीय और अशासकीय महाविद्यालयों के प्राचार्यों से वार्ता की। जिसमें कुमाऊं मंडल से 54 और गढ़वाल मंडल से 80 महाविद्यलयों के प्राचार्य और अधिकारी जुड़े। इस दौरान डॉ रावत ने सात बिंदुओं पर प्राचार्यों से चर्चा करते हुए सभी प्राचार्यों की वर्तमान मौजूदगी की जानकारी ली।

साथ ही उच्च शिक्षा मंत्री ने प्रचार्यों से ऑनलाइन क्लास की प्रगति की जानकारी प्राप्त की। डॉ रावत ने बताया कि प्रदेश में लगभग 70 फीसदी छात्र-छात्राएं ऑनलाइन क्लास के जरिये अध्ययन कर रहे हैं। वहीं बैठक में प्रचार्यों से उन छात्रों की पढ़ाई को लेकर भी सुझाव मांगे जो ऑनलाइन स्टडी से वंचित रह गए है।

वहीं बैठक में प्रचार्यों के साथ परीक्षा करने को लेकर भी चर्चा हुई जिसमें कई प्राचार्यों ने परीक्षाएँ कराने के लिए अतिरिक्त समय की मांग की। इसके साथ ही प्रचार्यों ने उच्च शिक्षा मंत्री से ग्रीन जोन में लॉक डाउन (17 मई) के बाद महाविद्यालय खोले जाने की बात कही। बैठक में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ रावत ने सभी प्राचार्यों से कॉलेजों में कर्मचारियों की उपस्थिति और उनके वेतन भुगतान की जानकारी लेते हुए डॉ रावत ने प्राचार्यों को निर्देशित करते हुए कहा कि जहाँ कर्मचारियों को वेतन नहीं दिया गया। वहां कर्मचारियों को वेतन देना सुनिश्चित करें।

बैठक में उच्च शिक्षा मंत्री डॉ रावत ने प्रचार्यों से सभी सात बिन्दुओं पर लिखित में भी सुझाव मांगे और तात्कालिक परिस्थितियों को मध्यनजर खुद के सुझाव देने के निर्देश दिए। वहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान प्रो.एम एस एम रावत, प्रो. के.डी. पुरोहित, सलाहकार उच्च शिक्षा, प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा आनंद वर्द्धन, निदेशक उच्च शिक्षा प्रो.अशोक कुमार, संयुक्त निदेशक डॉ कुमकुम रौतेला, डिप्टी निदेशक डॉ ए एस उनियाल, नोडल रूसा डॉ रचना नौटियाल, प्रभारी एडुसेट डॉ विनोद कुमार सहित उच्च शिक्षा के कई अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंस से जुड़े।