पीएम मोदी ने हंदवाड़ा मुठभेड़ के शहीदों को दी श्रद्धांजलि, कहा नहीं भुलाया जा सकता बलिदान

नई दिल्ली- जम्मू कश्मीर में देश की रक्षा करते हुए शहीद हुए जवानों को पीएम मोदी ने श्रद्धांजली दी है। पीएम मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा की शहिदों की शहादत को भुलाया नहीं जा सकता है। उन्होंने हंदवाड़ा में सुरक्षाबलों और आंतकियों के बीच एनकाउंटर में 21 राष्ट्रीय रायफल्स के कमांडिंग कर्नल ऑफिसर आशुतोष शर्मा, मेजर अनुज सूद सहित पांचों शहीदों को श्रद्धांजलि दी है।

पीएम मोदी ने ट्वीट करते हुये लिखा, ‘ हंदवाड़ा में शहीद हुए हमारे साहसी सैनिकों और सुरक्षाकर्मियों को श्रद्धांजलि। उनकी वीरता और बलिदान को कभी भुलाया नहीं जा सकेगा। उन्होंने अत्यंत समर्पण के साथ राष्ट्र की सेवा की और हमारे नागरिकों की रक्षा के लिए अथक परिश्रम किया. उनके परिवारों और दोस्तों के प्रति संवेदना.’

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने ट्विटर पर लिखा, ‘हंदवाड़ा में जवानों और सुरक्षाकर्मियों का शहीद होना दुखद और परेशान करनेवाला है। हमारे सभी जवानों ने आंतकियों से लड़ने में अदम्य साहस का परिचय दिया है। उनका यह बलिदान और साहस कभी भुलाया नहीं जा सकता है।

उन्होंने अगले ट्वीट में लिखा- “मैं हंदवाड़ा में आतंकियों के खिलाफ कार्रवाई के दौरान शहीद हुए सैनिकों और सुरक्षाकर्मियों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं. मेरी संवेदनाएं शहीदों के परिवार के साथ हैं. भारत इन बहादुर शहीदों के परिवारवालों के साथ कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।”

हंदवाड़ा मुठभेड़ में शहीद हुए जवानों को गृह मंत्री अमित शाह ने भी श्रद्धांजलि दी है। उन्होंने ट्वीट किया कि मैं जम्मू-कश्मीर के हंदवाड़ा में आतंकवादियों से मुठभेड़ के दौरान हमारी मातृभूमि की रक्षा करते हुए शहीद हुए हमारे सैनिकों को नमन करता हूं। राष्ट्र हमेशा उनके सर्वोच्च बलिदान के ऋणी रहेंगे। उनके शोक संतप्त परिवारों के प्रति मेरी गहरी संवेदना।

वहीं, सेना ने एक ट्वीट में कहा कि सेना प्रमुख एमएम नरवणे और बल के सभी रैंक के अधिकारियों ने सेना और पुलिस के जवानों को आतंकवादियों से लड़ते हुए शहीद होने पर श्रद्धांजलि अर्पित की है।

सेना के अधिकारियों ने कहा आतंकवादियों के साथ हुई मुठभेड़ में कर्नल आशुतोष शर्मा, मेजर अनुज सूद के अलावा नायक राजेश कुमार, लांस नायक दिनेश और जम्मू-कश्मीर पुलिस के उपनिरीक्षक शकील काजी भी शहीद हो गए। कर्नल शर्मा 21 राष्ट्रीय राइफल्स के कमांडिंग ऑफिसर थे तथा उन्हें कश्मीर में दो बार वीरता पदक से सम्मानित किया जा चुका था।