कोविड काल में हुए आदेश की समय सीमा खत्म

जनादेश/देहरादून: आज से उत्तराखंड पूर्व सैनिक कल्याण निगम के माध्यम से विभिन्न विभागों में गैर सैन्य पृष्ठभूमि के लोग नियुक्ति नहीं पा सकेंगे। उपनल के महाप्रबंधक ब्रिगेडियर पीपीएस पाहवा (सेवानिवृत्त) के मुताबिक कोविड काल के दौरान गैर सैन्यपृष्ठ भूमि के लोगों को भी नियुक्ति का आदेश हुआ था। 31 मार्च को इसकी समय सीमा खत्म हो गई है। प्रदेश सरकार की ओर से पूर्व सैनिकों एवं उनके आश्रितों के लिए 2004 में उपनल का गठन किया गया था, ताकि इसके माध्यम से विभिन्न विभागों में उन्हें नियुक्तियां दी जा सकें।

लेकिन समय-समय पर इसमें गैर सैन्यपृष्ठभूमि के लोगों की भर्ती होती रही है। पूर्व में वर्ष 2013 में तत्कालीन मुख्य सचिव ने पूर्व सैनिकों के अलावा गैर सैन्य पृष्ठभूमि के लोगों को भी उपनल से भर्ती का शासनादेश जारी किया था। पूर्व सैनिकों की नाराजगी के बाद इसे निरस्त कर दिया गया। जबकि अब 2020 में कोविड की वजह से गैर सैन्यपृष्ठभूमि के लोगों के लिए फिर से इसके माध्यम से नियुक्ति का रास्ता खोल दिया गया था। शुरूआत में एक साल के लिए नियुक्ति का रास्ता खोले जाने के बाद इसे कुछ और समय के लिए बढ़ाया गया, लेकिन अब 31 मार्च 2022 के बाद गैर सैन्यपृष्ठभूमि के लोग उपनल के माध्यम से नियुक्ति नहीं पा सकेंगे।