नैनीताल में मई की खड़ी दोपहर में हुई रात,फसलों को खासा नुकसान

नैनीताल। उत्‍तराखंड में रविवार का द‍िन मौसम के इति‍हास में एक तारीख के रूप में दर्ज हो गया है। दस मई की खड़ी दोपहर में आसमान काले बादलों से घिर गया और आंधी के साथ तेज बिजली चमकने लगी। मौसम का ये रौद्र रूप देखकर लोग घरों में दुबुक गए। सड़कें सूनी हो गईं। जिस महीने में सूरज की तपिश झेलना मुश्किल हो जाता है उसमें उसमें मौसम का ये रूप अभूतपूर्व और चौंकाने वाला है।

तकरीबन 15-20 मिनट के बाद आंधी के साथ ही जोरदार बारिश शुरू हो गई। मई माह में यह चौथी जोरदार बारिश है। आंधी-पानी के कारण इस बार आम, आडू, काफल जैसे फलों के साथ ही सब्जियों को भी खासा नुकसान हुआ है। नैनीताल, रुद्रपुर, रामनगर, चंपावत, पिथौरागढ़, अल्मोड़ा, बागेश्वर में आंधी के साथ पानी और बिजली चमकने का सिलसिला जारी है।कोरोना की त्रासदी जूझ रहे लोगों के लिए मौसम की मार इस बार अलग से झेलनी पड़ रही है।

इससे सर्वाधिक प्रभावित हो रहे हैं किसानों। गेहूं की फसलों को इस बार आंध-पानी के कारण खासा नुकसान हुआ है। रविवार को सुबह से धूप-छांव का खेल चलता रहा। डेढ बजे के करीब अचानक से आसमान में काले बादलों की घटा छा गई। दोपहर करीब दो बजे खड़ी दोपहर में रात हो गई। पहले आंधी शुरू हुई फिर कुछ ही देर में तेज हवा के साथ आंधी भी शुरू हो गई।

मौसम का रौद्र रूप देखकर लोग खिड़की-दरवाजा बंद कर घरों में कैद हो गए। मई माह में ऐसा मौसम शायद ही पहले कभी देखा गया हो। यादगार मौसम की लोगों ने खूब फोटो ली।