ज्ञानवापी शृंगार गौरी मामले में फैसले को चुनौती देगी मसाजिद कमेटी

जनादेश/वाराणसी: ज्ञानवापी शृंगार गौरी मामला सुनवाई योग्य करार दिए जाने के जिला जज के फैसले को अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी इलाहाबाद उच्च न्यायालय में चुनौती देगी। मंगलवार को कमेटी के पदाधिकारी वरिष्ठ वकीलों से परामर्श लेने में जुटे रहे। उधर, हिंदू पक्ष भी उच्च न्यायालय में कैविएट दाखिल करेगा। ताकि इस मामले में न्यायालय हिंदू पक्ष को सुनकर ही कोई आदेश जारी करे।

वाराणसी जिला जज की अदालत ने सोमवार को हिंदू पक्ष की याचिका को सुनवाई योग्य माना और अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी की आपत्ति को खारिज कर दिया। शृंगार गौरी के नियमित दर्शन-पूजन और अन्य विग्रहों के संरक्षण की मांग वाली याचिका पर सुनवाई जारी रहेगी। जिला जज की अदालत में 22 सितंबर को होने वाली सुनवाई में पक्षकार बने जिलाधिकारी, पुलिस आयुक्त और अंजुमन इंतजामिया कमेटी अपनी जवाबदेही दाखिल करेगी।

इसके बाद शृंगार गौरी के नियमित दर्शन व अन्य विग्रहों के संरक्षण वाले मूल वाद पर सुनवाई होगी। इससे पहले कमीशन की कार्रवाई आदि पर अदालत आदेश जारी कर सकती है। अंजुमन इंतजामिया मसाजिद कमेटी शहर में ज्ञानवापी मस्जिद सहित 22 मस्जिदों की देखभाल करती है और ज्ञानवापी मस्जिद-शृंगार गौरी परिसर मामले में मुस्लिम पक्ष का प्रतिनिधित्व कर रही है।