मल्लिकार्जुन खरगे ने संभाला कांग्रेस राष्ट्रीय अध्यक्ष का पदभार, ये है बड़ी चुनौतियां

जनादेश/दिल्ली: मल्लिकार्जुन खड़गे ने दिल्ली में कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पदभार संभाल लिया है। जिसके लिए कांग्रेस पार्टी की तैयारी पूरी हो गई है।

बता दें कि पूर्व राष्ट्रपति राहुल गांधी और प्रियंका गांधी भी इस पदभार ग्रहण कार्यक्रम में शामिल होंगे। दिवाली के कारण राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा दो दिनों के लिए टाल दी गई है। समारोह में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल भी शामिल होंगे।

वहीं दिल्ली रवाना होने से पहले बघेल ने कहा कि मल्लिकार्जुन खड़गे कांग्रेस पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष का पद संभालेंगे। मुझे भी इस अवसर पर उपस्थित रहने को कहा गया है। इसलिए मैं दिल्ली जा रहा हूं।

कार्यभार संभालने से पहले खड़गे ने मंगलवार को पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से उनके आवास पर मुलाकात की थी। इस दौरान वह पूर्व प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू, इंदिरा गांधी, लाल बहादुर शास्त्री और राजीव गांधी के स्मारक स्थलों के साथ-साथ पूर्व उप प्रधानमंत्री बाबू जगजीवन राम के स्मारक स्थल का भी दौरा करेंगे।

19 अक्टूबर को हुए कांग्रेस अध्यक्ष पद के चुनाव में शशि थरूर को हराकर खड़गे को पार्टी का नया अध्यक्ष चुना गया था। उन्होंने अपने प्रतिद्वंद्वी शशि थरूर को 6, 825 मतों के अंतर से हराया।

खड़गे को 7,897 वोट और थरूर को 1,072 वोट मिले थे। लेकिन मल्लिकार्जुन खड़गे का कार्यभार संभालने के बाद जिम्मेदारी उनके सामने चुनौतियों का पहाड़ लेकर आने वाली है।

जहां एक तरफ राजस्थान का राजनीतिक संकट तत्काल चुनौती के रूप में उनके सामने खड़ा है, तो वही अगले कुछ हफ्तों में होने जा रहे गुजरात और हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बेहतर करने की उम्मीदें बड़ी चुनौती है।