लॉकडाउनः कठुआ में वेतन न मिलने पर मजदूरों ने तोड़फोड़ कर किया प्रदर्शन

कठुआः देश में कोरोना वायरस महामारी के कारण लॉकडाउन है और हजारों की संख्या में मजदूर फंसे हुए हैं। रोजगार के चक्कर में कई मजदूर फैक्ट्रियों में ही रुके हैं। जम्मू रीजन के कठुआ जिले में शुक्रवार को कपड़ा मिल में काम करने वाले मजदूरों ने जमकर हंगामा किया और तोड़फोड़ की। मजदूरों ने आरोप लगाया कि उन्हें पूरा वेतन नहीं मिला है। उन्हें काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है।

दरअसल जम्मू संभाग के कठुआ जिले में चेनाब टेक्सटाइल मिल के मजदूरों ने सैलरी की मांग को लेकर जमकर हंगामा किया है। इन मजदूरों का आरोप है कि लॉकडाउन की वजह से फैक्ट्री में काम नहीं चल रहा है जिसके कारण उन्हें कई दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। मजदूरों का कहना है कि वेतन के नाम पर बहुत कम पैसे दिए जा रहे हैं। नाराज मजदूरों ने मिल के बाहर तोड़फोड़ कर कई वाहनों को नुकसान पहुंचाया। इस हंगामे के बाद जम्मू पठानकोट नेशनल हाइवे पर जाम लग गया।

मजदूरों द्वारा हंगामे की सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची पुलिस ने उन्हें समझाने का प्रयास किया। हालांकि जब मजदूरों का आक्रोश कम नहीं हुआ तो अधिकारियों ने बल का प्रयोग किया. जिससे इन मजदूरों ने आक्रोशित होकर पुलिस पर पथराव किया। साथ की कई गाड़ियों को तोड़ डाला। मौके पर पहुंचे पुलिस टीम काफी मशक्कत के बाद लोगों को समझाने में कामयाब हुई। पुलिस की ओर से मजदूरो को भरोसा दिलवाया गया कि प्रशासन चेनाब कपड़ा मिल से उनके वेतन को लेकर बात करेगा। फिलहाल वो लोग अपने शिविर में जाएं।

वहीं यहां लोगों को समझाने पहुंचे IPS शैलेंद्र मिश्रा ने भोजपुरी भाषा में लोगों से बात की और उन्हें भरोसा दिलवाया कि वो मिल मालिक से बात कर उनकी बाकी सैलरी दिलवाएंगे। उन्होंने कहा कि, “मजदूरों को लगता है कि मिल द्वारा दिया गया भुगतान पर्याप्त नहीं है। इसके अलावा, वे घर जाना चाहते हैं।”


.