नर्मदापुरम जिले में पुरानी रंजिश को लेकर चाकूबाजी, करणी सेना के नेता की मौत

जनादेश/डेस्क: मध्य-प्रदेश के नर्मदापुरम से एक घटना सामने आई हैं। बता दें कि नर्मदापुरम में इटारसी नगर पालिका के सामने शुक्रवार रात करणी सेना के नगर मंत्री की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई। दरअसल सूरजगंज रोड पर तीन बदमाशों ने रोहित सिंह राजपूत (28) और उनके दोस्त सचिन पटेल पर चाकू से हमला किया। इस दौरान बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे, जिनमें से किसी ने चाकूबाजी की घटना का वीडियो बनाकर वायरल कर दिया।

बता दें कि घटना के बाद राजपूत करणी सेना के पदाधिकारी और कार्यकर्ता बड़ी संख्या में इटारसी पहुंचे। थाने के सामने शव रखकर करणी सेना ने हंगामा किया। कार्यकर्ता आरोपियों का जुलूस निकालने की मांग कर रहे हैं। साथ ही उनके मकानों को गिराने की मांग भी की। घटना रात करीब 8.30 बजे मुख्य बाजार एरिया की है। यहां पर राजपूत अपने दोस्त के साथ खड़े थे। इस दौरान बाइक से तीन लोग आए और विवाद करने लगे। अचानक इनमें से एक ने चाकू निकाला और राजपूत के पेट में घोंप दिया। उसने एक के बाद एक लगातार वार किए। राजपूत का साथी बचाने दौड़ा, बदमाशों ने उस पर भी चाकू से हमला कर दिया।

लोगों ने पुलिस को सूचना दी और जख्मी राजपूत और पटेल को अस्पताल लेकर पहुंचे। राजपूत की इलाज के दौरान रात में मौत हो गई। वहीं दूसरी ओर पटेल की हालत गंभीर है। हादसे की सूचना मिलते ही एसडीओपी महेंद्र सिंह चौहान और टीआई रामसनेही चौहान सरकारी अस्पताल पहुंचे।

मामले पर इटारसी थाना टीआई ने बताया, करणी सेना के नगर मंत्री रोहित सिंह राजपूत की हत्या पुराने विवाद को लेकर हुई। हत्या में मुख्य आरोपी रानू उर्फ राहुल (27)   पिता फूलसिंह ठाकुर निवासी उत्तरी बंगलिया इटारसी है। रोहित सिंह और रानू ठाकुर का पुराना विवाद चल रहा था। आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया गया है। आरोपियों ने पूछताछ के दौरान बताया कि शुक्रवार रात रोहित और सचिन चाय की दुकान पर थे। उसी दौरान वहीं झड़प शुरू हो गई हैं। और रोहित पर चाकू से हमला बोल दिया।

वहीं प्रशासन द्वारा सख्ती भरतते हुए आरोपी अंकित भाट के मकान के अवैध हिस्से को ध्वस्त कर दिया गया। पुलिस बल और नगरीय प्रशासन की मौजूदगी में जेसीबी से अवैध निर्माण को गिराया गया और साथ ही आरोपियों का जुलूस भी निकाला गया। दरअसल करणी सेना के कार्यकर्ताओं ने शनिवार को शव रखकर चक्काजाम किया था, आरोपी और मृतक दोनों ही करनी सेना से जुड़े हुए हैं। हालांकि पुरानी रंजिश के चलते हत्याकांड को अंजाम दिया गया। पुलिस ने बताया कि आरोपी और मृतक दोनों ही आपराधिक प्रवृत्ति के हैं, दोनों पर पहले से कई केस दर्ज है, आपसी रंजिश के चलते घटना हुई।