मृत्यु की तारीख न याद होने पर इस दिन करें श्राद्ध

जनादेश/डेस्क: पितरों की तिथि याद न होने पर सर्वपितृ अमावस्या के दिन श्राद्ध और तर्पण किया जा सकता है। मान्यता है कि अंतिम दिन सर्वपितृ अमावस्या को पितृ अपने धाम लौट जाते हैं। पितृ विसर्जन 25 सितंबर यानी रविवार को होगा। उसके बाद नवरात्र और शुभ दिन शुरू हो जाएंगे।

महर्षि पाराशर ज्योतिष संस्थान ट्रस्ट के ज्योतिषाचार्य पंडित राकेश पांडेय ने बताया कि इस साल पितृ विसर्जन सर्वपैत्री, श्राद्ध की अमावस्या रविवार को मध्याह्ने श्राद्धम् कारयेत अतः मध्याह्न काल में ही श्राद्ध क्रिया करनी चाहिए। इस वर्ष अमावस्या तिथि पूरे दिन और रात्रि 3:24 तक रहेगी। जिस व्यक्ति की मृत्यु की तारीख पता नहीं होती है, उनका अमावस्या तिथि पर ही श्राद्ध करना चाहिए।

पंडित राकेश पांडेय ने बताया कि पितृ दोष शान्ति के लिए निम्न उपाय करें। त्रिपिण्डी श्राद्ध करें। गीता का पाठ, रूद्राष्ट्राध्यायी के पुरुष सूक्त, रुद्र सूक्त व ब्रह्म सूक्त आदि का पाठ करना चाहिए। पीपल के पेड़ के मूल में भगवान विष्णु का पूजन कर गाय का दूध चढ़ाएं। पितृ श्राप से मुक्ति के लिए उस दिन पीपल एक पौधा भी अवश्य लगाना चाहिए।