अंकिता हत्यकांड में सरकार का बड़ा एक्शन, कहा- आरोपियों को बख्शा नहीं जाएगा

जनादेश/देहरादून: गंगा भोगपुर स्थित रिसॉर्ट में संदिग्ध परिस्थितियों में गायब हुई पौड़ी गढ़वाल की 19 वर्षीय अंकिता भंडारी हत्या मामले को गंभीरता से लेते हुए मुख्यमंत्री धामी ने बडे़ आदेश जारी किए हैं। इस दौरान उन्होनें उत्तराखंड के समस्त रिज़ार्ट की जाँच करने के निर्देश ज़िलाधिकारियों को दिए हैं। साथ ही जो रिज़ार्ट अवैध बने हैं या अवैधानिक रूप से संचालित हैं उनके विरुद्ध तत्काल आवश्यक कार्यवाही सुनिश्चित करने को कहा गया हैं।

बता दें कि प्रदेश भर में स्थित होटल/रिज़ार्ट/गेस्ट हाउस आदि में कार्य करने वाले कर्मचारियों से भी उनकी स्थिति के बारे में जानकारी प्राप्त कर शिकायतों को गम्भीरता लेने के निर्देश दिए गए हैं। वहीं अंकिता भंडारी के हत्यारे पुलकित आर्य पर सख्त एक्शन लेते हुए धामी सरकार का बुल्डोजर रात को ही रिज़ार्ट पहुंच गया और रातो-रात रिज़ार्ट को ढह दिया गया।

लेकिन इस मामले से कई सवाल कानून पर खड़े हो गए हैं कि क्या क़ानून नेताओ की जेब में क़ैद हैं। एक लड़की की हत्या हो जाती हैं क्योंकि वह ईमानदारी और मेहनत से एक रिज़ॉर्ट में रिसेप्शनिस्ट का काम करती हैं। हालांकि उस रिजोर्ट का मालिक सत्ताधारी पार्टी के नेता का बेटा निकलता हैं जो जबरन अंकिता से देह व्यापार करवाना चाहता था। जानकारी के लिए बता दें कि अंकिता मर्डर केस में SDRF को चीला पावर हाउस में एक डेड बॉडी मिली है। जिसके तहत अंकिता के परिवार को शिनाख्त करने के लिए बुलाया गया है।