नौकरी दिलाने के नाम पर ठगी करने वाले फर्जी कॉल सेंटर का भंडाफोड़

जनादेश/डेस्क: दिल्ली पुलिस के नॉर्थ वेस्ट डिस्ट्रिक्ट के केशवपुरम थाने ने ‘टाटा एयर इंडिया’ में नौकरी दिलाने के नाम पर लोगों के साथ ठगी की वारदात को अंजाम देने वाले एक फ़र्ज़ी कॉल सेंटर का भंडाफोड़ किया हैं। बता दें कि इसमें मुख्य मास्टरमाइंड समेत 11 लोगों को गिरफ्तार किया है जिसमे 10 महिला शामिल है।

आरोपियों ने पिछले 45 दिनों से उड़ीसा, एमपी, महाराष्ट्र और दिल्ली के विभिन्न राज्यों के 50 से अधिक लोगों को धोखा दिया है। इनके निशाने पर खास तौर पर उड़ीसा, एमपी और महाराष्ट्र के लोग हुआ करते थे जिससे कि फेस टू फेस संपर्क ना हो सके।

दरअसल 1 सितंबर को दिल्ली पुलिस को कन्हैया नगर में एक अवैध कॉल सेंटर के संबंध में गुप्त सूचना मिली थी। सूचना मिलने के बाद एसएचओ केशवपुरम ने एक टीम का गठन किया । जिसकेतहत उन्होने कन्हैया नगर में एक परिसर के टॉप फ्लोर पर छापा मारा, जहां अवैध कॉल सेंटर चल रहा था। छापे के टाइम कॉल सेंटर का मालिक अनिल कुमा, 10 महिला टेलीकॉलर के साथ परिसर में मौजूद थे। ।

पूछताछ करने पर पता चला कि अनिल कुमार पिछले 45 दिनों से परिसर में इस अवैध कॉल सेंटर को चला रहा है और भोले-भाले बेरोजगार युवकों को टेलीफोन पर महिला टेलीकॉलर की मदद से ‘टाटा एयर इंडिया’ में नौकरी दिलाने का लालच देता है। उन्हें व्हाट्सएप के माध्यम से ‘टाटा एयर इंडिया’ के जाली नियुक्ति पत्र भी भेजा जाता हैं। और रजिस्ट्रेशन फीस, ड्रेस फीस आदि के बदले 1500 से 8,000 रुपये की मांग करता था।

वहीं मुख्य मास्टरमाइंड अनिल से निरंतर पूछताछ के दौरान, उसने कबूल किया कि वो पिछले 45 दिनों से फर्जी कॉल सेंटर चला रहा है और 50 से अधिक लोगों को धोखा दे चुका है । अनिल ने बताया कि  उन्होंने पिछले 45 दिनों से उड़ीसा, एमपी, महाराष्ट्र के बदले 50 से अधिक लोगों को धोखा दिया। उन्होनें  ‘टाटा एयर इंडिया’ की नौकरी की पेशकश के ‘वर्क इंडिया पोर्टल’ से मुख्य रूप से लोगों का डेटा एकत्र किया ताकि उनसे फिजीकली संपर्क न किया जा सके। हालांकि छापेमारी के दौरान पुलिस ने 18 मोबाइल फोन, डेबिट कार्ड, ‘टाटा एयर इंडिया’ के फर्जी दस्तावेज और अन्य दस्तावेज बरामद किए हैं।