एलन मस्क बने ट्विटर के मालिक, 10 महीने पहले ट्विटर में थी 5% हिस्सेदारी

जनादेश/डेस्ककभी ट्विटर डील से पीछा छुड़ाने की कोशिश कर रहे एलन मस्क अब खुलकर ट्विटर पर अपने अधिकारों का इस्तेमाल करते हुए दिख रहे हैं। आपको बता दे कि कल ही एक सिंक के साथ ट्विटर के ऑफिस में कदम रखने वाले मस्क ने संकेत दे दिया था कि वो बड़े बदलाव करने जा रहे हैं। इसके बाद ट्विटर से इस्तीफे का दौर शुरू हो गया है। टेस्ला के CEO एलन मस्क के ट्विटर को खरीदने के बाद अब खबर आ रही है कि ट्विटर के सीईओ पराग अग्रवाल और सीएफओ नेड सेगल ने इस्तीफा दे दिया है। इसी के साथ ही मस्क ने ट्विटर के लीगल पॉलिसी प्रमुख को भी बाहर का रास्ता दिखा दिया है। ये वहीं हैं जिन्होने अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति ट्रंप का अकाउंट बैन किया था। कभी हां कभी न करते हुए इसी महीने की 4 अक्टूबर को मस्क ने 44 अरब डॉलर की इस डील को पूरा करने के संकेत दिए थे। इसी डील से वो पिछले कुछ महीनों से पीछा छुड़ाना चाह रहे थे। हालांकि ट्विटर के द्वारा मस्क को कोर्ट में खींचने के बाद मस्क ने डील पूरा करने का ऑफर दिया जिसे ट्विटर ने मान लिया। जानिए इस पूरे घटनाक्रम में कब क्या हुआ।

31 जनवरी: मस्क ने ट्विटर में धीरे धीरे अपनी हिस्सेदारी बढ़ानी शुरू की। मार्च तक मस्क के पास ट्विवटर में 5 प्रतिशत हिस्सेदारी थी। 26 मार्च: मस्क ने पहली बार ट्विटर को खरीदने के संकेत दिए जब उन्होने ट्विट कर कहा कि वो ट्विटर का एक विकल्प तैयार करना चाहते हैं क्योंकि वो ‘फ्री स्पीच’ के पक्ष में है। इस ट्वीट के जरिए मस्क ने ट्विटर को लेकर सवाल खड़े किए। इसके साथ ही मस्क ने ट्विटर के को-फाउंडर जैक डोर्सी से मुलाकात की। 27 मार्च: शेयर बाजारों को दी गई जानकारी के मुताबिक मस्क ने ट्विटर के सीईओ और बोर्ड से मुलाकात की और बोर्ड में खुद को शामिल करने पर चर्चा की साथ ही ये संकेत भी दिए कि वो ट्विटर का प्रतियोगी खड़ा कर सकते हैं। 4 अप्रैल: बाजार को दी गई जानकारी के अनुसार ट्विटर ने बताया कि 9 प्रतिशत हिस्सेदारी खरीद कर मस्क ट्विटर के सबसे बड़े शेयर धारक बन गए हैं। जिनके पास 3 अरब डॉलर के 7.35 करोड़ शेयर हैं। 5 अप्रैल: मस्क को शर्तों के साथ ट्विटर के बोर्ड में जगह ऑफर की गई। 9 अप्रैल: दोस्ताना शुरुआत के बाद पहली बार मस्क और सीईओ अग्रवाल के बीच तनाव उभर कर आया जब दोनो के बीच ट्विट के जरिए तीखे सवाल जवाब हुए। 11 अप्रैल: ट्विटर सीईओ पराग अग्रवाल ने ऐलान किया कि मस्क ट्विटर बोर्ड मे शामिल नहीं होंगे। 14 अप्रैल: मस्क ने ट्विटर को खरीदने के लिए 44 अरब डॉलर का ऑफर दिया। 15 अप्रैल: ट्विटर ने जबरन टेकओवर से बचने के लिए सुरक्षात्मक रणनीति poison pill का ऐलान किया। 21 अप्रैल: मस्क ने डील के लिए 46 अरब डॉलर जुटाए। 25 अप्रैल: मस्क ने ट्विटर को 44 अरब डॉलर में खरीदने की डील की। 29 अप्रैल: मस्क ने डील की फंडिंग के लिए 8.5 अरब डॉलर मूल्य के टेस्ला के शेयर बेचे। 6 जून: बॉट अकाउंट की जानकारी को लेकर मस्क ने ट्विटर से डील तोड़ने की धमकी दी।

12 जुलाई: डील से पिछले हटने पर ट्विटर ने मस्क के खिलाफ कोर्ट में अपील की, मस्क भी ट्विटर के खिलाफ कोर्ट पहुंचे। 19 जुलाई: कोर्ट ने कहा कि मामले में सुनवाई अक्टूबर से शुरू होगी। 5 अक्टूबर: मस्क ने ट्विटर पर अपने पहले प्रस्ताव पर आगे बढ़ने की बात कही। ऑफर मिलने पर ट्विट ने कहा कि वो सौदा पूरा करेगी। 6 अक्टूबर: कोर्ट ने 17 अक्टूबर की सुनवाई टाली और दोनो पक्षों को 28 अक्टूबर तक समझौते पर पहुंचने और सौदा पूरा करने को कहा।