डायबिटीज के रोगियों को मिल सकता है छुटकारा, जानें कैसे

जनादेश/डेस्क: देश में करीब सात करोड़ मधुमेह रोगी हैं और आठ करोड़ इसकी शुरुआती स्टेज का सामना कर रहे हैं। डायबिटीज में देखभाल और ब्लड शुगर लेवल के उतार-चढ़ाव पर नियंत्रण रखना बहुत जरूरी है। कुछ साल पहले तक यह माना जाता था कि एक बार शुगर होने पर जीवनभर दवा खाने के अलावा और कोई विकल्प नहीं है, क्योंकि मधुमेह पर नियंत्रण संभव है, इलाज नहीं। लेकिन अब ये देखा जा रहा है कि जिन कम उम्र के लोगों में अभी इसकी शुरुआत हुई है, उन्हें थोड़े से इलाज के बाद मधुमेह से छुटकारा मिल सकता है।

ऐसे में पब मेड पर मौजूद जर्नल ऑफ नैचुरल साइंसेज, बायोलॉजी एंड मेडिसिन में प्रकाशित एक शोध के मुताबिक, ऐसे भारतीय जिन्हें मधुमेह का खतरा सबसे अधिक था, उनमें डायबिटीज रिवर्सल यानी मधुमेह का पूरी तरह से खत्म होना देखा गया है। जर्नल की रिपोर्ट में बेंगलुरु के एक अस्पताल में 32 मधुमेह रोगियों के इलाज के आधार पर यह नतीजा निकाला गया है कि इनमें से 68.79 फीसदी लोग दो साल के भीतर पूरी तरह से मधुमेह से मुक्त हो गए। ये लोग युवा थे, और इनमें से तीन मरीज ऐसे थे, जो इंसुलिन ले रहे थे। बाकी सभी मरीज दवाएं ले रहे थे। 

आईएलटी के दौरान दो बातों पर ध्यान दिया गया। एक रोगी के भोजन की मात्रा कम की गई। इसे 1500 किलो कैलोरी प्रतिदिन किया गया जबकि स्वस्थ व्यक्ति के लिए 2100 किलो कैलोरी की जरूरत होती है। दूसरे रोज एक घंटे तक तेज-तेज चलना होता है। कम कैलोरी लेने से और रोज तेज चलने से यकृत में जमा फैट धीरे-धीरे कम होने लगता है। इससे यृकत से जो फैट रक्त के जरिये अग्नाशय में पहुंचकर उसकी बीटा सेल्स के कार्य को बाधा पहुंचाता था, वह भी हटने लगता है। कोशिकाएं जब पहले की भांति इंसुलिन पैदा करती हैं तो वह रक्त में शर्करा को नियंत्रित करने लगती हैं। मधुमेह रोग विशेषज्ञ डॉ. अनूप मिश्रा कहते हैं 20 फीसदी तक रोगियों में मधुमेह खत्म करना संभव है। 

ऐसे रोगियों को राहत 
रिपोर्ट के अनुसार, जिनमें मधुमेह की शुरुआत हुई, उन सबके अग्नाशय में इंसुलिन पैदा करने वाली बीटा कोशिकाएं क्षतिग्रस्त नहीं होती हैं बल्कि वसा की अधिकता के कारण उनका कार्य बाधित हो रहा होता है। यह भी टाइप-2 मधुमेह का एक बड़ा कारण है। वसा को कम करके डायबिटीज को दूर किया जा सकता है।