वादे के बावजूद तालिबान ने लड़कियों की शिक्षा पर रोक लगाई

जनादेश/डेस्क: काबुल | अफगानिस्तान में तालिबान शासन ने लड़कियों के लिए उच्च शिक्षा पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया है , जिसके अनुसार लड़कियां छठी कक्षा से आगे के स्कूलों में नहीं जा सकेंगी। हालांकि, अतीत में तालिबान ने अंतरराष्ट्रीय समुदाय से वादा किया है कि वे महिलाओं और लड़कियों के अधिकारों को प्रतिबंधित नहीं करेंगे। तालिबान के अधिकारी ने बुधवार को इस कदम की पुष्टि की।

यह फैसला तालिबान ने अफगानिस्तान में नया शैक्षणिक सत्र शुरू होने से पहले किया है। अंतर्राष्ट्रीय समुदाय तालिबान नेताओं से आग्रह करता रहा है कि वे जल्द ही स्कूल खोलें और महिलाओं को उनके सार्वजनिक अधिकारों से वंचित न करेंइस सप्ताह की शुरुआत में मंत्रालय द्वारा जारी एक बयान में, सभी छात्रों को स्कूल जाने के लिए कहा गया था।

तालिबान के नेतृत्व वाले प्रशासन के विदेश संबंध अधिकारी वहीदुल्ला हाशमी ने एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि लड़कियों के उच्च शिक्षा स्कूलों में जाने पर प्रतिबंध लगाने का फैसला मंगलवार रात सामने आया। हाशमी ने कहा कि लड़कियों के लिए स्कूल बंद करने का फैसला हमें कल रात तालिबान नेतृत्व ने दिया। हम यह नहीं कह रहे हैं कि स्कूल हमेशा के लिए बंद कर दिए जाएंगे। उन्होंने कहा, “नेतृत्व ने यह तय नहीं किया है कि लड़कियों को कब और कैसे स्कूल लौटने दिया जाएगा।”