भ्रष्टाचार, घोटालों के बावजूद क्या पीएम मोदी बना पाएंगे करप्शन फ्री भारत ?

जनादेश/डेस्क: देश के प्रधानमंत्री मोदी ने भारत को करप्शन फ्री बनाने के लिए सख्त नजर आ रहे हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक, पीएम मोदी ने एनआईए, सीबीआई और ईडी के साथ साथ राज्य सरकारों को इस सम्बंध में सख्त कदम उठाने के आदेश दिए है, जिसका पालन उत्तर प्रेदश और उत्तराखंड सरकार जोर-शोर से करती नजर आ रही हैं। जहां एक तरफ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि “पुलिस के हूटरो से कांपने चाहिए अपराधी” वहीं दूसरी ओर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी घोटालों को लेकर एक्शन मोड मे हैं। जिसके चलते धामी सरकार ने यूकेएसएसएससी पेपर लीक के विवादो में आए अधिकारियों के तबादला कर दिए हैं।

वहीं CBI  लगातार भ्रष्टाचार की छापेमारी कर रही हैं। फिर चाहे वो व्यापारी हो या डॉक्टर सभी का पर्दाफाश किया जा रहा है। दूसरी ओर NIA भी अपराधियों का पीछा छोड़ने को तैयार नही हैं। आपको बता दें कि पूरे देश में ताबड़तोड़ छापेमारी जारी हैं। इसके चलते कई खुलासे भी हुए हैं। दरअसल  एनआईए की जांच में यह भी पता चला है कि इस तरह के आपराधिक कृत्य अलग-थलग स्थानीय घटनाएं नहीं थीं, बल्कि आतंकवादियों, गैंगस्टरों और ड्रग तस्करी कार्टेल और नेटवर्क के बीच एक गहरी साजिश थी, जो देश के भीतर और बाहर दोनों जगह से काम कर रहे थे।

यह छापेमारी जेल में बैठे गैंगस्टरों के गेंग की भी करी जा रही हैं। गिरोह ड्रग्स और हथियारों की तस्करी के जरिए ऐसी आपराधिक गतिविधियों को अंजाम देने के लिए फंड भी जुटा रहे थे। जग्गू भगवानपुरियां ड्रग का सबसे बड़ा सिंडिकेट चलाता है और लारेंस बिश्नोई से जुड़ा हुआ है। नीरज बबानिया के घर से हथियार बुलेट प्रूफ जैकेट बरामद होने की खबरें भी सामने आई हैं। इससे यह बात तो साबित होती हैं कि भारत जैसे देश में आंतकियों, भ्रष्टाचारियों को बक्शा नहीं जाएगा। क्योंकि उत्तरप्रदेश और उत्तराखंड सरकार का एकशन मोड बड़े पैमान पर जारी हैं।