देश में कोरोना संक्रमण की संख्या पहुंची 72 हजार करीब, रिकवरी रेट 31.15 फीसदी

बदली कोरोना डिस्चार्ज नीति, इन मरीजों को टेस्ट बगैर ही मिलेगी छुट्टी

नई दिल्लीः देश में कोरोना का खतरा बढ़ता जा रहा है।मंगलवार को संक्रमितो का आकंड़ा 72 हजार के करीब पहुंच गया है। आज दिल्ली में अभी तक सबसे ज्यादा 406 केस सामने आए है। दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने कहा, दिल्ली में डब्लिंग रेट अब 11 दिन हो गई है। यह रेट एक बार 3 या 4 दिन तक पहुंच गई थी। यदि यह रेट 18, 20 या 25 तक पहुंच जाती है, तो काफी राहत की बात होगी।

कर्नाटक में कल शाम 5 बजे से आज दोपहर 12 बजे तक कोरोना वायरस (COVID-19) के 42 नए पॉजिटिव मामले सामने आए हैं।  राज्य में कुल पॉजिटिव मामलों की संख्या 904 हो गई है। इसमें से 31 लोगों की मौत हो गई है और 426 डिस्चार्ज हो गए हैं। कर्नाटक स्वास्थ्य विभाग ने इसकी जानकारी दी है।जिसके साथ ही covid19india.org के अनुसार संक्रमित मरीजों की संख्या 71,910 पहुंच गई है। जबकि इसमें से 23,517 लोग ठीक हो चुके है।

तमिलनाडु में एक ही दिन में 800 मामले, महाराष्ट्र में  868 मौत

महाराष्ट्र में कोरोना वायरस (COVID-19)के पिछले 24 घंटे में 1,230 नए मामले सामने आ गए हैं। राज्य में मरीजों की संख्या 23,401 हो गई है। 868 लोगों की मौत हो गई है।तमिलनाडु में कोरोना वायरस (COVID-19) का संक्रमण तेजी से बढ़ रहा है। यहां एक ही दिन में लगभग 800 मामले सामने आए हैं। इसके साथ ही राज्य में मरीजों की संख्या 8,002 हो गई है। इनमें से 53 लोगों की मौत हो गई है। सोमवार को लगातार पांचवें दिन तमिलनाडु ने 500 से अधिक मामले सामने आए। राज्य में  5,895 एक्टिव केस है।

गृह मंत्रालय के साथ साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में स्वास्थ्य सचिव लव अग्रवाल ने बताया कि कोरोना की रिकवरी रेट बढ़कर अब 31.15% हो गई है।स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार देश में कोरोना वायरस के 70,756 मामले सामने आ गए हैं। पिछले 24 घंटे में 3604 मामले सामने आए हैं। इनमें से 46,008 एक्टिव केस हैं। 22,454 मरीज ठीक हो गए हैं। 2293 लोगों की मौत हो गई है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि कोरोना वायरस डिस्चार्ज नीति बदली गई क्योंकि कई देशों ने परीक्षण आधारित रणनीति से लक्षण आधारित रणनीति या समय आधारित रणनीति में अपने डिस्चार्ज मानदंड को बदल दिया है। उन्होंने कहा कि क्लीनिकल कंडीशन के आधार पर और नई डिस्चार्ज नीति के अनुसार, बहुत हल्के, हल्के और मध्यम रोगियों को बिना कोरोना वायरस टेस्टिंग के ही छुट्टी दे दी जा सकती है।

उन्होंने बताया कि स्वास्थ्य मंत्रालय ने बहुत हल्के या पूर्व-लक्षण वाले कोरोना वायरस मामलों के होम आइसोलेशन के लिए संशोधित दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जिसके अनुसार ऐसे मामलों में होम आइसोलेशन की अवधि के बाद टेस्ट की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने आगे बताया कि यह भी ध्यान रखना महत्वपूर्ण होगा कि डिस्चार्ज पॉलिसी, घर या क्वारनटीन वाले मरीजों के लिए नहीं है।

वहीं कोरोना महामारी से लड़ाई में आरोग्य सेतु ऐप काफी मददगार साबित हो रहा है। इससे देशभर में 697 कोरोना संक्रमण की आशंका वाले हॉट स्पॉट की जानकारी मिली है। अब तक 9 करोड़ 80 लाख लोग यह ऐप डाउनलोड कर चुके हैं। ब्लूटूथ कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग के जरिए 1 लाख 40 हजार यूजर्स को संक्रमण के खतरे को लेकर अलर्ट किया गया। यह जानकारी एम्पावर्ड ग्रुप 9 के चेयरमैन अजय साहनी ने दी। वहीं, सरकार इस ऐप को लॉकडाउन खत्म होने के बाद भी हवाई यात्रियों के लिए अनिवार्य कर सकती है।