फिर बढ़ने लगे कोरोना के मामले, हाई अलर्ट मोड पर योगी सरकार

जनादेश/लखनऊ: उत्तर प्रदेश की जनता को एक बार फिर कोरोना महामारी की चिंता सताने लगी है। प्रदेश में बीते दिनों कोरोना के मामलों में इजाफा देखा गया। राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने निर्देश दिए कि कोरोना के बढ़ते केस के चलते वर्तमान परिस्थितियों के दृष्टिगत पूरे एनसीआर को अलर्ट मोड में रखा जाएगा। उन्होंने शनिवार को टीम-9 के साथ एक अहम बैठक की। बैठक के दौरान उन्होंने निर्देश दिए कि प्रदेश की सीमा से लगे कुछ राज्यों में बीते कुछ दिनों से कोविड के केस में बढ़ोतरी देखने को मिली है। एनसीआर के जिलों में भी इसका असर साफ देखा जा सकता है। गौतमबुद्ध नगर में 70 और गाजियाबाद में 11 पॉजिटिव मरीजों की पुष्टि हुई है। इसलिए ज़रूरी है कि पूरे एनसीआर में हाई अलर्ट रखते हुए पूरे पुख़्ता इंतज़ाम किए जाएं।

गौतमबुद्ध नगर और गाजियाबाद में कोविड पॉजिटिव पाए गए मरीजों के सैम्पल लेकर जीनोम सिक्वेंसिंग कराने का आदेश दिया। साथ ही इन जिलों के डीएम, सीएमओ से संवाद कर स्थिति की गहन समीक्षा भी की जाए। प्रदेश में वर्तमान में कुल एक्टिव केस की संख्या 507 है। विगत 24 घंटों में 73 हजार 881 कोरोना टेस्ट किए गए, जिसमें 106 नए कोरोना मरीजों की पुष्टि हुई है। इसी अवधि में 37 लोग उपचारित होकर कोरोना मुक्त भी हुए। हमें पूरी सावधानी और सतर्कता बरतनी होगी।

योगी आदित्यनाथ ने आगे कहा की कोविड टीकाकरण का हमारा महत्वपूर्ण अभियान सफलतापूर्वक चल रहा है। 30 करोड़ 56 लाख से अधिक कोविड टीकाकरण के साथ ही अब तक 103 से ज्यादा वयस्क आबादी को टीके की पहली डोज लगाई जा चुकी है, जबकि 86% लोगों को दोनों खुराक मिल चुकी है। 12 से 14 और 15 से 17 आयु वर्ग के टीकाकरण की प्रगति संतोषप्रद है। इसे और तेज किया जाए।

उन्होंने आगे कहा की आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में प्रदेश के सभी विकास खंडों में विशेष स्वास्थ्य मेलों का आयोजन प्रारंभ हो रहा है। 18 से 23 अप्रैल की अवधि में आयोजित इन मेलों में स्थानीय जनप्रतिनिधियों की उपस्थिति भी रहे। धान और गेहूं की तर्ज पर बाजरा की खरीद के लिए भी नीति तैयार करें। किसानों को उनकी उपज का सही मूल्य मिले, समय पर भुगतान हो, उनकी आय में बढ़ोतरी हो। यह सुनिश्चित करना हमारा दायित्व है। इस दिशा में ठोस कार्ययोजना तैयार कर प्रस्तुत करें।