धामी को फिर सौंपी जा सकती है कमान

जनादेश/देहरादून: उत्तराखंड में मोदी-शाह और नड्डा की तिकड़ी मुख्यमंत्री के चुनाव के मामले में किसी भी चेहरे पर दांव लगाकर सबको चौंका सकती है। यह जानते हुए भाजपा में सीएम की कुर्सी के लिए दौड़ शुरू हो गई है। बेशक सीएम पद के लिए कोई खुलकर सामने नहीं आ रहा है, लेकिन अरमान तकरीबन हर कद्दावर नेता के जोर मार रहे हैं। नतीजा यह है कि सियासी हलकों में यह चर्चा जोरों पर है कि भाजपा पुष्कर सिंह धामी को ही सत्ता की कमान सौंप सकती है। पुष्कर सिंह धामी मुख्यमंत्री रहते हुए चुनाव हारने के मिथक को नहीं तोड़ पाए। हालांकि उनके चेहरे पर लड़े गए इस चुनाव में भाजपा दो तिहाई बहुमत हासिल करने में कामयाब रही। यही तर्क धामी को मुख्यमंत्री बनाए जाने की संभावना के पक्ष में गढ़ा जा रहा है।

महाराज और धन सिंह के नामों की चर्चा सीएम पद के लिए सिर्फ धामी का ही नाम गूंज रहा हो, ऐसा नहीं है। नव निर्वाचित विधायकों में से जिन्हें मुख्यमंत्री पद का मजबूत दावेदार माना जा रहा है, उनमें एक नाम वरिष्ठ नेता सतपाल महाराज हैं। पौड़ी जिले के चौबट्टाखाल से दूसरी बार चुनाव जीते महाराज गढ़वाल से सांसद रहे हैं और केंद्र में मंत्री भी रह चुके हैं। दूसरा नाम श्रीनगर गढ़वाल से चुनाव जीते डॉ. धन सिंह रावत का है। संघ की पृष्ठभूमि के धन सिंह की संगठन में तगड़ी पैंठ मानी जाती है। क्षेत्रीय और जातीय समीकरणों के हिसाब से विधायकों में से कुछ और नामों की चर्चा हो रही है। चर्चाओं में ब्राह्मण चेहरे वरिष्ठ विधायकों में ब्राह्मण चेहरे के तौर पर मदन कौशिक, गणेश जोशी और सुबोध उनियाल, विनोद चमोली के नामों की चर्चाएं शुरू हो गई हैं। कुमाऊं से बंशीधर भगत और अरविंद पांडेय के नाम भी चर्चाओं में है।

ठाकुर चेहरे : पुष्कर सिंह धामी, सतपाल महाराज और धनसिंह के अलावा पूर्व कैबिनेट मंत्री और पूर्व प्रदेश अध्यक्ष बिशन सिंह चुफाल के नाम भी चर्चाओं में है।

गैर विधायकों में निशंक और भट्ट के नाम
भाजपा के हलकों में यह चर्चा भी गरमाती रही कि यदि केंद्रीय नेतृत्व ने गैर विधायकों में से किसी चेहरे पर दांव लगाया तो वह इन सियासी दिग्गजों में से हो सकता है। इनमें सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक का नाम चर्चाओं में है। निशंक केंद्र में मंत्री व प्रदेश मुख्यमंत्री रह चुके हैं। केंद्रीय रक्षा राज्यमंत्री अजय भट्ट का नाम चर्चाओं में है। चर्चा पूर्व मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत के नाम की भी शुरू हो गई। हालांकि शुक्रवार को उन्होंने कहा इस संभावना से साफ इनकार किया।

त्रिवेंद्र और धामी के लिए सीट छोड़ने को तैयार
भाजपा के दो नव निर्वाचित विधायकों ने अलग-अलग घोषणा की कि वह अपनी सीट छोड़ने को तैयार हैं। डोईवाला विधानसभा सीट से चुने गए विधायक बृजभूषण गैरोला का बयान सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है कि त्रिवेंद्र सिंह रावत को पार्टी मुख्यमंत्री बनाती है तो वह अपनी सीट उनके लिए खाली कर देंगे। चंपावत के विधायक कैलाश गहतोड़ी ने कार्यवाह मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के लिए अपनी सीट खाली करने का एलान किया। सरकार के गठन व मुख्यमंत्री के चुनाव के लिए अभी केंद्रीय नेतृत्व से हमें कोई सूचना प्राप्त नहीं हुई है। केंद्रीय नेतृत्व के जो भी दिशा-निर्देश होंगे, उसके अनुसार प्रक्रिया शुरू होगी। निर्णय केंद्रीय नेतृत्व करना है।