शिक्षक दिवस पर सीएम धामी ने की घोषणा, अब अनाथ बच्चों के लिए शुरू होगी यह योजना

जनादेश/डेस्क: राष्ट्रीय शिक्षक दिवस के अवसर पर उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंघ धामी ने राज्य में बड़ा ऐलान किया है। उन्होने अनाथ बच्चों के लिए बालाश्रय योजना की शुरूआत करने का फैसला लिया है। सीएम धामी ने कहा कि अनाथ बच्चों की कक्षा एक से 12वीं तक की शिक्षा व्यवस्था के लिए सरकार बालाश्रय योजना शुरू करेगी। वहीं, बालिका शिक्षा को प्रोत्साहित किए जाने के लिए राजीव गांधी नवोदय विद्यालयों की तरह हर जिले में बालिका आवासीय विद्यालय खोले जाएंगे।

मुख्यमंत्री धामी ने शिक्षक दिवस पर मुख्य सेवक सदन में आयोजित समारोह में शिक्षकों और मेधावी छात्रों को पुरस्कृत करते हुए यह घोषणा की।

सीएम ने ये घोषणाएं की

1. मुख्यमंत्री ने कहा कि बालाश्रय योजना के तहत अनाथ बच्चों की 12वीं तक की पढ़ाई के साथ ही उन्हें मुफ्त पुस्तकें, स्कूल ड्रेस, बैग, जूते, मोजे एवं लेखन सामग्री दी जाएगी।
2. प्रदेश में दुर्गम और दूरस्थ क्षेत्रों में पहले चरण में अधिक छात्र संख्या वाले 50 स्कूलों में शिक्षकों के लिए शिक्षक आवास बनाए जाएंगे। स्कूलों में खेल मैदान तैयार किए जाएंगे। 
3. हाईस्कूल स्तर पर 100 स्कूलों में एकीकृत प्रयोगशाला एवं इंटरमीडिएट स्तर पर 100 स्कूलों में भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, जीव विज्ञान, भूगोल आदि की प्रयोगशालाएं स्थापित की जाएंगी। 
4. पीएम पोषण योजना के तहत 6 लाख से अधिक छात्र-छात्राओं को सप्ताह में एक दिन के स्थान पर अब दो दिन दूध दिया जाएगा।
5. राजीव गांधी नवोदय विद्यालयों, कस्तूरबा गांधी आवासीय बालिका छात्रावास एवं नेताजी सुभाषचंद्र बोस आवासीय छात्रावास में छात्र-छात्राओं की भोजन व्यवस्था के लिए सौ रुपये प्रतिदिन की दर से धनराशि दी जाएगी।
6. केंद्रीय विद्यालयों की तरह प्रदेश के माध्यमिक स्कूलों में शिक्षकों के लंबे अवकाश पर रहने के दौरान स्कूलों में बच्चों की पढ़ाई पर इसका असर न पड़े, इसके लिए स्थानीय स्तर पर विषयगत शिक्षकों की व्यवस्था की जाएगी। 
7. शिक्षा में सुधार के लिए सुझाव प्रकोष्ठ गठित किया जाएगा।
8. प्रधानाचार्य के पास 50 हजार रुपये की व्यवस्था रहेगी।