भाजपा किसानों के प्रदर्शनों के कारण उन्हें पराली जलाने के लिए निशाना बना रही है:राय

जनादेश/नई दिल्ली: दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने बुधवार को भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पर आरोप लगाया कि कृषि कानूनों के खिलाफ हुए प्रदर्शनों की वजह से वह पंजाब में किसानों को पराली जलाने के लिए निशाना बना रही है।

राय ने वाहनों से होने वाले प्रदूषण को कम करने के लिए दिल्ली के लोगों को घर से काम करने और वाहन साझा करने का सुझाव दिया।

आम आदमी पार्टी (आप) के नेता ने कहा कि पंजाब में किसान पराली जलाने को मजबूर हैं, क्योंकि भाजपा नीत केंद्र सरकार ने पराली जलाने के लिए उन्हें आर्थिक सहायता प्रदान करने की राज्य सरकार की योजना का समर्थन नहीं किया।

राय ने यहां एक संवाददाता सम्मेलन में कहा, ‘‘भाजपा किसानों द्वारा किए प्रदर्शनों के कारण उन पर आरोप लगा रही है…. वे अब चाहते हैं कि उनके खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की जाए। उन्हें किसानों को कोसना बंद करना चाहिए, बदला लेने की बजाय उनका साथ देना चाहिए।’’

मंत्री ने कहा, ‘‘वायु प्रदूषण की समस्या का समाधान राजनीति के जरिए नहीं किया जा सकता। वायु गुणवत्ता प्रबंधन आयोग (सीएक्यूएम) ने इसके लिए एक योजना बनाई है और इसे उत्तर प्रदेश और हरियाणा…. गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गुरुग्राम और बहादुरगढ़ में भी लागू किया जाना चाहिए। विज्ञान एवं पर्यावरण केंद्र(सीएसई) द्वारा किए गए एक अध्ययन के अनुसार दिल्ली में 69 प्रतिशत वायु प्रदूषण बाहरी कारकों की वजह से होता है।’’

नामित प्रधान न्यायाधीश चंद्रचूड़ के खिलाफ याचिका पर सुनवाई करेगा उच्चतम न्यायालय

नई दिल्ली, 02 नवंबर (वेब वार्ता)। उच्चतम न्यायालय ने बुधवार को उस याचिका पर सुनवाई करने का फैसला किया, जिसमें वरिष्ठतम न्यायाधीश डी वाई चंद्रचूड़ को प्रधान न्यायाधीश के रूप में नौ नवंबर को शपथ लेने से रोकने का अनुरोध किया गया है।

जब एक वकील ने बृहस्पतिवार को सुनवाई के लिए इस मामले का जिक्र किया, तो प्रधान न्यायाधीश उदय उमेश ललित की अगुवाई वाली पीठ ने कहा कि वह बृहस्पतिवार के बजाय अपराह्न पौने एक बजे याचिका पर सुनवाई करेगी

न्यायमूर्ति ललित ने कहा, ‘‘मेरे भाई (न्यायमूर्ति एस रवींद्र भट) और बहन (न्यायमूर्ति बेला एम त्रिवेदी) के लिए मामले से जुड़े दस्तावेज लाए जाएं। हम आज अपराह्न पौने एक बजे के लिए मामले को सूचीबद्ध करेंगे।’’ नामित प्रधान न्यायाधीश चंद्रचूड़ को नौ नवंबर को भारत के 50वें प्रधान न्यायाधीश के रूप में शपथ लेनी है।