सभी जिलों में जल्द खुलेंगे बाल मित्र थाने

जनादेश/लखनऊ: बच्चों से संबंधित अपराध में पीड़ितों की मदद के लिए प्रदेश भर में बाल मित्र थाने खोले जाएंगे। राज्य बाल अधिकार संरक्षण आयोग की मंगलवार को हुई बैठक में इससे संबंधित प्रस्ताव को हरी झंडी दे दी गई। प्रस्ताव को अब शासन से मंजूरी के लिए भेजा जाएगा। बाल मित्र थाने प्रदेश के सभी 75 जिलों में खोले जाएंगे। आयोग के अध्यक्ष देवेद्र शर्मा ने बताया कि बाल मित्र थानों के माध्यम से बच्चों को बेहतर माहौल दिलाने का प्रयास किया जाएगा। इन थानों में पुलिसकर्मी वर्दी में नहीं रहेंगे। जरूरत पर यहां बच्चों की काउंसिलिंग की भी व्यवस्था होगी। इन थानों को बच्चों के अनुरूप सुसज्जित कर उनके लिए खिलौने व बाल साहित्य भी रखा जाएगा।

बैठक में ‘एक युद्ध, नशे के विरुद्ध’ अभियान चलाने पर भी चर्चा हुई। मेडिकल स्टोर से नशे की दवाएं किशोर न खरीद सकें इसके लिए दवा की दुकानों पर अनिवार्य रूप से सीसीटीवी कैमरे लगवाने के निर्देश दिए गए। बैठक में आयोग की एडवाइजरी कमेटी गठित करने व परामर्शदाता की नियुक्ति का प्रस्ताव भी पास किया गया। तय किया गया कि पुलिस को बच्चों के प्रति संवेदनशील बनाने के लिए वर्कशॉप की शुरुआत लखनऊ मंडल से की जाएगी। आयोग बच्चों से जुड़ी शिकायत दर्ज करने के लिए जल्द ही व्हाट्सएप नंबर जारी करेगा।