AMU के प्रोफेसर ने की हिन्दू देवी-देवताओ पर टिप्पणी

जनादेश/उत्तरप्रदेश: अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी में एक बार फिर विवाद का मामला सामने आया है। यूनिवर्सिटी से अटैच एक कॉलेज के असिस्टेंट प्रोफेसर पर हिंदू देवी-देवताओं के बारे में आपत्तिजनक पढ़ाई कराने का आरोप लगा गया है।

यूनिवर्सिटी के पूर्व छात्रों ने इसकी शिकायत सोशल मीडिया पर करी है। इस मामले के सामने आने के बाद प्रोफेसर को सस्पेंड कर दिया गया है। यूनिवर्सिटी के जेएन मेडिकल कॉलेज के फॉरेंसिक मेडिसिन विभाग के असिस्टेंट प्रोफेसर डॉ. जितेंद्र पावर पॉइंट पर देवी-देवताओं का नाम लेकर आपत्तिजनक पढ़ाई करा रहे थे। कुछ स्टूडेंट्स ने इसकी फोटो खींच कर मामले पर आपत्ति जताते हुए सोशल मीडिया पर शिकायत करी। यूनिवर्सिटी ने नोटिस थमाई तो प्रोफेसर ने अपना माफीनामा दिया।

प्रोफेसर खिलाफ दी गई तहरीर

जेएन मेडिकल कॉलेज में MBBS की पढ़ाई के दौरान फॉरेंसिक साइंस विषय में रेप के बारे में पढ़ाई कराई जा रही थी। रेप विषय को पढ़ाने के दौरान देवी-देवताओं के बारे में आपत्तिजनक बातें कही गईं थी। पढ़ाई के दौरान की जो पीपीटी वायरल हो रही थी।

उसमें हिंदू देवी-देवताओं के बारे में अमर्यादित बातें लिखी गई थी। इस पीपीटी का स्क्रीन-शॉट वायरल हुआ तो हिंदू संगठनों ने इसका विरोध करना शुरू कर दिया। मामला सामने आने के बाद AMU के पूर्व छात्र नेता और भाजपा नेता डॉ. निशित शर्मा ने आरोपी असिस्टेंट प्रोफेसर के खिलाफ बुधवार को सिविल लाइंस थाने में तहरीर दी।

तहरीर में उन्होंने कहा कि रेप विषय की पढ़ाई कराने के दौरान प्रोफेसर ने देवी-देवताओं के बारे में बेहद गलत टिप्पणी करी जो की हिन्दू धर्म के खिलाफ है। इससे हिंदू धर्म में आस्था रखने वाले लोगों की भावनाएं आहत हुई हैं। तहरीर के बाद पुलिस ने मामले की जांच करनी शुरू कर दी।
अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी ने मामले में जांच बैठा दी है। इसके साथ ही दो सदस्यीय टीम जांच कर रही है।

इस मामले के बाद असिस्टेंट प्रोफेसर से स्पष्टीकरण मांगा गया। दो वरिष्ठ प्रोफेसर को मामले की जांच सौंपी गई है। एएमयू जनसंपर्क विभाग के प्रभारी सदस्य प्रो. शाफे किदवई ने बताया कि जब तक मामले की जांच पूरी नहीं होती तब तक प्रोफेसर को निलंबित कर दिया गया है।
सीओ श्वेताभ पांडेय ने बताया कि AMU में देवी देवताओं पर अमर्यादित पढ़ाई कराने की शिकायत सामने आई है। इस मामले की जांच की जा रही है। एएमयू प्रशासन भी मामले की जांच कर रहे है। आरोपी प्रोफेसर के खिलाफ तहरीर मिली है। जांच के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।