AFSPA को लेकर अमित शाह का बड़ा ऐलान

जनादेश/नई दिल्ली:  केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि केंद्र ने दशकों की अशांति के बाद नागालैंड, असम और मणिपुर में सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (AFSPA) के तहत क्षेत्रों को कम करने का फैसला किया है। अमित शाह ने ट्वीट कर यह जानकारी दी है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्णायक नेतृत्व में भारत सरकार एक महत्वपूर्ण कदम पर आगे बढ़ना। दशकों बाद, नागालैंड, असम और मणिपुर राज्यों ने सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम (AFSPA) के तहत अशांत क्षेत्रों को कम करने का फैसला किया।

गौरतलब है कि पिछले कुछ दशकों से अफस्पा को लेकर पूर्वोत्तर के राजनीतिक दलों से इसे हटाने की मांग की जा रही है। भाजपा शासित राज्यों नागालैंड और मणिपुर में भी इसकी मांग काफी मजबूत रही है। मणिपुर के सीएम बीरेन सिंह ने भी AFSFA को लेकर चुनावी वादा किया था।सशस्त्र बल विशेष अधिकार अधिनियम 1958 (AFSPA) के तहत, केंद्र सरकार, राज्यपाल की रिपोर्ट के आधार पर, किसी राज्य या क्षेत्र को अशांत घोषित करती है और वहां केंद्रीय सुरक्षा बलों को तैनात करती है। AFSPA के तहत, सशस्त्र बलों को कहीं भी ऑपरेशन करने और बिना वारंट के किसी को भी गिरफ्तार करने का अधिकार है।