नॉर्थ कोरिया में ‘बुखार’ के चलते 6 लोगों में गंवाई जान, करीब दो लाख का चल रहा इलाज

जनादेश/प्योंगयांग: नार्थ कोरिया में कोरोना वायरस का पहला मामला सामने आया है जिसके साथ ही वहां ‘बुखार’ से मौतें दर्ज की गई हैं। समाचार न्‍यूज एजेंसी AFP से मिली जानकारी के मुताबिक अब तक ‘बुखार’ से छह लोगों की मौत हो गई है। नॉर्थ कोरिया की सरकार का कहना है कि 1,87,000 लोगों को आइसोलेट कर दिया गया है और उनका इलाज कराया जा रहा है। अभी इस बात की पुष्टि नही हुई कि कौन सा बुखार फैला है जिसकी वजह से मौतें हुईं। वहीं समाचार एजेंसी एएनआई ने बताया कि इस रहस्यमयी बुखार से अब तक साढ़े तीन लाख (3,50,000) लोग संक्रमित हुए है।

आपको बता दें की उत्तर कोरिया में दो साल बाद कोरोना का पहला मामला सामने आया है। नए केस की पुष्टि के बाद किम जोंग उन ने देश में लॉकडाउन लगाने का ऐलान किया है। उन्होंने अपील की है कि कोरोना से बचाव के उपायों को और अधिक बढ़ाया जाए और इनका सख्ती से पालन किया जाए। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक गुरुवार को राजधानी प्योंगयांग में कुछ लोगों के सैंपल की जांच की गई थी। इनमें कोरोना के ओमिक्रॉन वैरिएंट की पुष्टि हुई है। समाचार एजेंसी रॉयटर्स के मुताबिक लोगों को घरों के भीतर रहने को कहा गया है और अधिकारियों द्वारा राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन लागू कर दिया गया है।

कोरोना वायरस को दुनिया में सामने आए दो साल से अधिक समय हो चुका है, लेकिन अब से पहले तक उत्तर कोरिया ने अपने यहां कोरोना के मामलों के सामने आने की जानकारी नहीं दी थी। आधिकारिक कोरियन सेंट्रल न्यूज एजेंसी ने कहा कि कोविड के रिपोर्ट किए गए नए मामले वायरस के खतरनाक ओमीक्रोन वैरिएंट से जुड़े हुए हैं। एजेंसी ने कहा कि इसकी पुष्टि के बाद किम जोंग उन ने पार्टी के पोलित ब्यूरो और अन्य अधिकारियों की बैठक बुलाई और घोषणा की कि वे कोरोना से बचाव वाले नियमों को सख्ती से लागू करें और लोगों से इसका पालन कराएं।

समाचार एजेंसी एएनआई के मुताबिक उत्तर कोरिया ने पहले ही देश में 18,000 से अधिक कोविड ​​​​-19 मामले दर्ज किए हैं, जिसमें आठ मौतें हुई हैं, योनहाप समाचार एजेंसी ने शुक्रवार को उत्तर कोरियाई राज्य मीडिया का हवाला देते हुए बताया है। गुरुवार को उत्तर कोरिया ने देश में COVID-19 का पहला मामला दर्ज किया। उत्तर कोरिया के नेता किम जोंग उन ने स्थिति को अचानक आपातकाल बताया और लॉकडाउन की घोषणा की।