दिल्ली में 50% कर्मचारी करेंगे वर्क फ्रॉम होम, ट्रकों-डीजल व्‍हीकल की एंट्री बैन

जनादेश/नई दिल्ली: दिल्ली की हवा में प्रदूषण का स्तर गंभीर श्रेणी में पहुंच गया है। दिल्ली के कई इलाकों में एयर क्वालिटी इंडेक्स 500 के पार चला गया है।  इस बीच, दिल्ली की आप सरकार ने बड़ा फैसला किया है कि शहर में ट्रकों और डीजल व्हीकल्स की एंट्री पर बैन रहेगा। ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे पर गाड़ियों का डायवर्ट किया जाएगा। इसके अलावा 50 फीसदी कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम करेंगे। इसके लिए प्राइवेट दफ्तरों को भी एडवाइजरी जारी की जाएगी। दिल्ली सरकार के मुताबिक, ट्रांसपोर्ट, ट्रैफिक पुलिस और डीपीसीसी से दो-दो सदस्यों की कमेटी बनाई गई है, जो इसे लागू करवाएगी। हरियाणा और उत्तर प्रदेश के मंत्रियों को पत्र लिखा जाएगा कि ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे से गाड़ियों को शुरुआत में ही डाइवर्ट करें। इससे जाम की स्थिति से छुटकारा मिलेगा।

बता दें कि दिल्ली के अंदर 500 प्राइवेट पर्यावरण बस सेवा शुरू करने के लिए परिवहन विभाग को निर्देश दिए गए हैं। बढ़ते प्रदूषण को रोकने में इससे मदद मिलेगी। दिल्ली में निर्माण कार्य पर पहले से ही रोक है। दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि दिल्ली सरकार के 50 फीसदी कर्मचारी वर्क फ्रॉम होम करेंगे। प्राइवेट दफ्तरों को भी इसका पालन करने की सलाह दी गई है। दिल्ली सरकार ने प्रदूषण को रोकने के लिए उपायों के क्रियान्वयन की निगरानी के लिए 6 सदस्यीय समिति का गठन किया है। दिल्ली सरकार ने अंतिम चरण के तहत केंद्र सरकार की एयर क्वालिटी इंडेक्स कमेटी की तरफ से लगाए गए प्रतिबंधों को लागू करने का फैसला लिया है। हालांकि सीएम अरविंद केजरीवाल ने कहा कि शनिवार से दिल्ली में प्राइमरी स्कूल बंद रहेंगे और स्कूलों में पांचवीं से ऊपर की कक्षाओं के छात्रों की खुले में खेल गतिविधियों की भी अनुमति नहीं होगी। उन्होंने कहा कि हम वाहनों के लिए ऑड-ईवन योजना लागू करने पर भी विचार कर रहे हैं।