उत्तराखंड जरा हटके देश होम

बेस कैंप मार्ग पर ग्लेशियर खिसकने से चीन सीमा का रास्ता बंद

122 50 Views
FB_IMG_1539317565939~2
Ansh
Ansh2
2021-05-13 (1)
2021-05-13 (2)

जनादेश/उत्तराखण्ड:  पंचाचूली बेस कैंप मार्ग पर उच्च हिमालयी सेला गांव के पास विशालकाय ग्लेशियर खिसककर सड़क पर आ गया है। इससे माइग्रेशन गांवों के साथ ही भारत की अग्रिम चौकी विदांग और दावे की तरफ चीन सीमा पर सुरक्षा पर डटे आईटीबीपी के हिमवीरों की मुश्किलें बढ़ गई हैं। हालांकि वे बुलंद हौसले के साथ सीमा सुरक्षा में डटे हैं।

[ssba-buttons]

उच्च हिमालय क्षेत्र में अब तक सात बार बर्फबारी हुई है। लेकिन अब कई दिनों से लगातार धूप खिलने पर ग्लेशियर खिसकने शुरू हो गए हैं। पैदल रास्तों में पहले से ही कई-कई फीट बर्फ जमा है। क्षेत्र के लोगों ने बताया वरुंग नाले के निकट ग्लेशियर 500 मीटर से अधिक खिसक आया है, इससे माइग्रेशन गांव वालिंग, नागलिंग, फिलम, बोन, गो, तिदांग, मार्छा, सीपू, ढ़ाकर, दांतू, सेला, चल, दुग्तू, सौन का शेष दुनिया से सड़क संपर्क से कट गया है।

शीतकालीन पर्यटन कारोबार चौपट: ग्लेशियर के खिसकने से रास्ता बंद होने से दारमा घाटी में शीतकालीन पर्यटन कारोबार चौपट हो गया है। दारमा वैली में 200 से अधिक घरों में होम स्टे का अच्छा कारोबार होता है। यह देखते हुए इस बार यहां विंटर ट्रेक भी खोला गया था।

13 हजार फीट की ऊंचाई पर बसे हैं ग्लेशियर खिसककर आने से सड़क सुविधा से कटे गांव। इन गांवों में ग्रीष्मकाल में 6 हजार से अधिक लोग रहते हैं। चीन सीमा पर तैनात भारतीय सीमा सुरक्षा बल हर समय रहता है मुस्तैद।

Download Janadesh Express E-Paper
2021-05-13 (1)
2021-05-13 (2)
2021-05-17
ad