देश पटना बिग ब्रेकिंग बिहार ब्रेकिंग न्यूज़ राजनीति राजनीती राज्य होम

बिहार चुनावः महागठबंधन का घोषणा पत्र जारी, जानिए क्या-क्या किए वादे

8 12 Views
FB_IMG_1539317565939~2
Ansh
Ansh2
IMG-20200403-WA0004
IMG-20200513-WA0002

संकल्प-पत्र में ‘कवर पर सिर्फ तेजस्वी’,सबसे बड़ा मुद्दा बना बेरोजगारी

तेजस्‍वी का तंज- क्‍या ट्रंप दिलाएंगे विशेष राज्‍य का दर्जा?

जनादेश/ पटनाः बिहार में महागठबंधन ने नवरात्र के पहले दिन अपना संयुक्‍त घोषणा पत्र जारी किया। इस मौके पर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला और शक्ति सिंह गोहिल सहित महागठबंधन केे अन्‍य प्रमुख नेताओं के साथ एक प्रेस कांफेन्‍स को सम्‍बोधित करते हुए सरकार बनने पर किए जाने वाले कामों के बारे में विस्‍तार से जानकारी दी।

तेजस्वी यादव ने अपनी सरकार बनने पर कैबिनेट की पहली बैठक में ही 10 लाख नौकरियां देने का संकल्‍प दुहराया। साथ ही यह भी कहा कि 15 साल से डबल इंजन की सरकार रहने के बावजूद नीतीश कुमा बिहार को विशेष राज्‍य का दर्जा नहीं दिला सके हैं। इसके लिए डोनाल्‍ड ट्रंप तो इसके लिए नहीं आएंगे।

नेताओं ने बिहार की नीतीश सरकार पर जनहित के कामों की अनदेखी का आरोप लगाया। साथ ही कानून व्‍यवस्‍था सहित सभी मोर्चों पर सरकार को फेल बताया। तेजस्‍वी यादव ने दोहराया कि महागठबंधन की सरकार बनी तो पहली कैबिनेट बैठक में दस लाख बेरोजगारों को नौकरी देने का फैसला किया जाएगा। महागठबंधन के साझा घोषणापत्र को बदलाव के संकल्प पत्र का नाम दिया गया है।

आरजेडी के साथ-साथ कांग्रेस और वाम दलों में सरकार गठन के बाद बिहार के लिए जो प्राथमिकताएं तय की है उसका जिक्र इस घोषणापत्र में किया गया है। तेजस्वी यादव पहले ही कह चुके हैं कि वह घटक दलों के सहमति से ही सरकार का न्यूनतम साझा कार्यक्रम लागू करेंगे और इसी कड़ी में आज महागठबंधन अहम कदम उठाने जा रहा है।

इस अवसर पर तेजस्‍वी ने कहा कि आज बेरोजगारी बसे बड़ा मुद्दा है। अपनी सरकार बनने पर वे रोजगार के लिए आवेदन करने वालों की फीस माफ करेंगे तथा परीक्षा केंद्र तक जाने का किराया भी देंगे।तेजस्‍वी ने कहा कि आज बिहार से बड़ी संख्या में लोग दिल्ली जाते हैं। हमें पलायन रोकने का संकल्प लेना है।

उन्‍होंने समान काम के लिए समान वेतन देने तथा जीविका दीदी को नियमित वेतन देने व वेतन वृद्धि का भी वादा किया। कृषि ऋण माफ करने की भी बात कही। बोले कि राज्‍य में चीनी व जूट मिलें ठप हैं। बिहार में बिजली का उत्पादन नहीं हो रहा है। सरकार बिजली खरीद कर बेचती है। सबसे महंगी बिजली बिहार में ही है।

घोषणा पत्र के बड़े वादे

– पहली कैबिनेट में दस लाख नौजवानोंं को रोजगार
– परीक्षा के लिए भरे जाने वाले आवेदन फार्म पर फीस माफ
– परीक्षा केंद्रों तक जाने का किराया सरकार देगी
– हमारा संकल्प है कि पलायन रोकेंगे
– कर्पूरी श्रम सहायता केंद्र खोलेंगे, इससे लोगाें की मदद करने में आसानी होगी
– शिक्षकों के लिए सामान काम सामान वेतन का वादा पूरा करेंगे
-जीविका दीदियों का मानदेय दोगुना करने का वादा
–  पहले विधानसभा सत्र में केंद्र के कृषि संबंधी तीनों बिल के प्रभाव से बिहार के किसानों को मुक्ति दिलाने का वादा किया गया है।

कानून-व्‍यवस्‍था पर बोलते हुए कहा कि सृजन घोटाले के आरोपी घूम रहे हैं। महागठबंधन की 18 महीने की सरकार से 15 साल की तुलना कर लीजिए। भारतीय जनता पार्टी (BJP) जबसे सरकार मे आई है, अपराध बढ़े हैं।

कहते थे मोतीहारी में चाय पिएंगे, आज बंद हैं सारी मिलें 
तेजस्‍वी यादव ने नीतीश कुमार पर सीधा हमला बोलते हुए कहा कि 2015 के चुनाव में मुख्‍यमंत्री कहते थे कि मोतीहारी की शुगर मिल में चाय पिएंगे। आज चाहे शुगर मिल हो, जूट मिल हो या पेपर मिल सब ठप हैं। बिहार में मकई, लीची, गन्‍ने, केले आदि का भरपूर उत्‍पादन होता है लेकिन एक फूड प्रोसेसिंग यूनिट नहीं है। उन्‍होंने कहा कि उनकी सरकार बनी तो इन सारी चीजों पर ध्‍यान दिया जाएगा लेकिन सबसे जरूरी काम बेरोजगारों को नौकरी देने का सबसे पहले किया जाएगा। उन्‍होंने कहा कि बिहार की जनता में रोजगार छीने जाने को लेकर सरकार के खिलाफ बड़ा गुस्‍सा है।

Download Janadesh Express E-Paper
IMG-20200519-WA0028
IMG-20190709-WA0001
IMG-20200513-WA0002