राजनीती

जो भी हो, कांग्रेस अध्यक्ष प्रभावी और सक्रिय होना चाहिए?

37 00 Views

अभय कुमार —

नजरिया. राहुल गांधी के पद छोड़ देने के बाद कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर लंबे समय से चल रही उलझन शनिवार को खत्म हो सकती है? खबर है कि कांग्रेस के नए अध्यक्ष को लेकर शनिवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में फैसला होगा. वैसे तो कई नेताओं के नाम चर्चाओं में हैं, लेकिन मुकुल वासनिक अध्यक्ष पद के सबसे प्रबल दावेदारों माने जा रहे हैं. शनिवार को होने वाली कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में इन दो दशकों में पहली बार गांधी परिवार से बाहर के किसी नेता को कांग्रेस का अध्यक्ष पद मिल सकता है.

हालांकि, सियासी जानकारों का मानना है कि पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत जैसे वरिष्ठ और अनुभवी नेता कांग्रेस के लिए ज्यादा सही साबित हो सकते हैं. उल्लेखनीय है कांग्रेस के सवा सौ सालों से ज्यादा लंबे इतिहास में अधिकतर समय गांधी-नेहरू परिवार के सदस्य ही पार्टी प्रमुख रहे हैं, लेकिन इस बार राहुल गांधी, गांधी-नेहरू परिवार के किसी सदस्य को पार्टी अध्यक्ष बनाने के लिए राजी नहीं हैं.

इस संबंध में यूपीए अध्यक्ष सोनिया गांधी के आवास पर हुई बैठक में एके एंटनी, अहमद पटेल, केवी वेणुगोपाल जैसे कांग्रेस के कई वरिष्ठ नेताओं की मौजूदगी में यह विचार उभर कर आया कि नए कांग्रेस अध्यक्ष के चयन में अब और देरी नहीं की जानी चाहिए. बहरहाल राजनीतिक जानकारों का मानना है कि इस वक्त कांग्रेस के समक्ष जैसी राजनीतिक चुनौतियां हैं उनके मद्देनजर यदि कांग्रेस अध्यक्ष के चयन में गलती हुई तो पहले से सियासी सवालों के घेरे में खड़ी कांग्रेस की परेशानी और बढ़ जाएगी? इसलिए, जो भी हो, कांग्रेस अध्यक्ष प्रभावी और सक्रिय होना चाहिए!