भाजपा राज में असम के 1561 युवा बनें आतंकी: मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा

जनादेश/डेस्क: असम के मुख्यमंत्री डॉ. हिमंत बिस्वा सरमा ने भाजपा सरकार पर बड़ा आरोप लगाया है। उन्होंने कहा कि 2016 से असम के 1500 से अधिक युवा विभिन्न आतंकवादी संगठनों में शामिल हुए हैं। जबकि, 800 ने सरेंडर किया।

गौरतलब है कि मंगलवार को असम विधानसभा में कांग्रेस विधायक देवव्रत सैकिया के एक प्रश्न ने जवाब में मुख्यमंत्री हिमंत बिस्वा सरमा ने कहा कि 2016 से 2022 तक 811 युवा एनडीएफबी में शामिल हुए, जबकि 164 युवा एनएलएफबी (बोडो) में शामिल हुए, 351 युवा पीडीसीके, 203 युवा उल्फा में शामिल हुए और 32 युवा इस अवधि के दौरान यूपीआरएफ में शामिल हुए। 

सीएम सरमा ने आगे बताया कि, “इस अवधि के दौरान 23 विभिन्न उग्रवादी संगठनों के 7935 आतंकियों ने आत्मसमर्पण किया और मुख्यधारा में शामिल हुए। एनडीएफबी के 4516 में से एनएलएफबी के 465, केपीएलटी के 915, पीडीसीके के 388 कैडर, यूपीएलए के 378 और केएलएनएलएफ के 246 कैडर थे। डीएनएलए के 181 कैडर, एडीएफ के 178 कैडर, यूजीपीओ के 169 कैडर, उल्फा के 105 कैडर, एनएसएलए के 87 कैडर, टीएलए के 77 कैडर, केएलएफ के 60 कैडर ने आत्मसमर्पण किया है।