इंजीनियरिंग समेत इन तीन सेक्टरों में 12 लाख नौकरियां आएंगी

जनादेश/नई दिल्ली: वित्तीय वर्ष 2025-26 के लिए इंजीनियरिंग, दूरसंचार और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में 1.2 करोड़ रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे। एक रिपोर्ट में यह अनुमान लगाया गया है। टीमलीज सर्विसेज के कार्मिक विभाग टीमलीज डिजिटल ने कहा कि पुनरुद्धार के साथ, प्रौद्योगिकी और डिजिटल की बढ़ती पैठ से इन क्षेत्रों में रोजगार के अवसर बढ़ेंगे। रिपोर्ट में कहा गया है कि सभी रोजगार के अवसरों का 17 प्रतिशत कुशल श्रमिकों या अत्यधिक कुशल और विशिष्ट पेशेवर श्रमिकों के लिए उपलब्ध होगा।

‘पेशेवर नौकरियां – डिजिटल रोजगार-रिपोर्ट में रुझान’ शीर्षक वाली रिपोर्ट ने इंजीनियरिंग, दूरसंचार और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्रों में 750 से अधिक नियोक्ताओं / अधिकारियों के विचारों को लिया है। टीमलीज डिजिटल के हेड (स्पेशलाइज्ड जॉब्स) सुनील सी ने कहा “इंजीनियरिंग, दूरसंचार और स्वास्थ्य सेवा क्षेत्र 4.0 संक्रमण के कगार पर हैं। यह केंद्रीय औद्योगिक नियंत्रण वाली प्रणाली से बुद्धिमान उत्पादों और प्रक्रियाओं की ओर बढ़ रहा है।

आज यह इसके संचालन का केंद्र है। सुनील ने कहा कि उत्पादन आधारित प्रोत्साहन योजना (पीएलआई) और प्रत्यक्ष विदेशी निवेश (एफडीआई) के कारण मांग बहुत तेजी से बढ़ रही है। उन्होंने कहा कि इन तीनों क्षेत्रों में रोजगार के अवसर 25 से 27 प्रतिशत के बीच बढ़ेंगे। कुशल या विशिष्ट प्रतिभाओं की मांग आज के 45,65,000 से बढ़कर 2026 तक अनुमानित 90,00,000 हो जाएगी।