हिमाचल : राजमार्ग मुद्दे पर कांग्रेस का विधानसभा से बहिर्गमन

शिमला, 7 फरवरी (ब्यूरो जनादेश एक्सप्रेस)|

हिमाचल प्रदेश विधानसभा में गुरुवार को विपक्षी कांग्रेस ने राजमार्ग के मुद्दे पर सदन से बहिर्गमन किया।

  कांग्रेस ने आरोप लगाया कि राज्य की भारतीय जनता पार्टी(भाजपा) सरकार केंद्र द्वारा 70 राष्ट्रीय राजमार्गो के लिए अनुमोदित 65,000 करोड़ रुपये प्राप्त करने विफल रही। सदन से बहिर्गमन के बाद, मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार पर 2017 विधानसभा चुनाव से पहले करीब एक वर्ष तक राजमार्गो की प्रक्रिया को जानबूझकर रोकने का आरोप लगाया।

उन्होंने कहा, “राज्य कांग्रेस 70 राष्ट्रीय राजमार्गो के लिए सैद्धांतिक मंजूरी का लाभ भाजपा को नहीं देना चाहती थी।”

ठाकुर ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने एक वर्ष में राजमार्गो के केवल आठ विस्तृत योजना रिपोर्टो(डीपीआरएस) की प्रक्रिया शुरू की थी, जबकि ‘हमारी सरकार ने 50 डीपीआर की आउटसोर्सिग की प्रक्रिया शुरू की।’

मुख्यमंत्री ने कहा, “सैद्धांतिक मंजूरी के बाद राजमार्गो की अधिसूचना में समय लगता है, क्योंकि इसमें कई प्रक्रियाएं शामिल होती हैं।”

विपक्षी कांग्रेस के इस कदम को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस सदन से बहिर्गमन का मौका ढूंढ रही थी।

उन्होंने कहा, “कांग्रेस आगामी लोकसभा को लेकर हल्ला मचाना चाह रही है। विकास सामूहिक कार्यक्रम है और किसी को भी विकास में व्यवधान नहीं उत्पन्न करना चाहिए।”

इससे पहले विपक्ष के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने कहा कि सरकार इस मुद्दे पर झूठे वादे कर रही है, लेकिन जमीनी स्तर पर कुछ नहीं हो रहा है।