सीवान। कोटा में फंसे छात्रों को लेकर सीवान पहुंची स्पेशल ट्रेन

👉ट्रेन से उतरते ही सभी की स्टेशन पर हुई स्कीनिंग, दिया गया नाश्ता

👉रेलवे स्टेशन से बसों के द्वारा अपने-अपने जिले के लिए रवाना हुए छात्र-छात्राएं

👉सीवान पहुंचे छात्र-छात्राओं के चहरे पर दिखाई दी घर पहुंचने की खुशी

👉भारत माता की जय से गुंजायमान हुआ रेलवे स्टेशन


सीवान ।राजस्थान के कोटा से छात्र-छात्राओं को लेकर चली स्पेशल ट्रेन सोमवार को दोपहर सीवान पहुंची। लॉकडाउन चलते कोटा में फंसे छात्रों के चेहरे पर अपने गृह जिला लौटने की खुशी साफ दिखाई दे रही थी। स्पेशल ट्रेन से करीब सीवान समेत 3 जिले के कुल 1300 बच्चे ट्रेन से आये। छात्रों को उनके गृह जिला तक पहुंचाने के लिए सीवान प्रशासन ने बसों की सैनिटाइज कर व्यवस्था कर रखी है। साथ ही सीवान रेलवे स्टेशन पर छात्रों के पहुंचने के पहले ही सोशल डिस्टेंसिग को बनाए रखने के लिए प्लेटफार्म पर एक मीटर की दूरी पर बड़ा घेरा बना दिया गया था ताकि सभी छात्र सोशल डिस्टेंसिंग को बरकरार रख सकें। स्पेशल ट्रेन के आगमन के बाद सभी छात्रों की मेडिकल टीम द्वारा स्क्रीनिंग की गई और उन्हें नाश्ता भी कराया गया।रेलवे स्टेशन पहुंचने के बाद,प्रशासन ने दूसरे जिलों के श्रमिको छात्र-छात्राओं को बस से पुलिस सुरक्षा में रवाना किया। ट्रेन से सीवान जंक्शन पहुंचते ही छात्रों ने ताली बजाकर खुशी का इजहार किया।बताते चलें कि कोटा से चलकर सीवान पहुंची इस स्पेशल ट्रेन में तकरीबन 600 छात्र-छात्राएं सीवान तथा 600 छात्र गोपालगंज जिले के रहने वाले है।

स्पेशल ट्रेन से पहुंचे छात्र हुए खुश

वहीं ट्रेन आने के पूर्व ही जिलाधिकारी अमित कुमार पाण्डेय और एसपी अनुभव कुमार समेत जिले के कई वरीय अधिकारी रेलवे स्टेशन पहुंच गए थे। वहीं कोटा से स्पेशल ट्रेन से पहुंचे छात्रों ने बताया कि अब वो काफी खुश हैं। लॉकडाउन में उन्हें बहुत परेशानी हो रही थी, खाने-पीने के साथ-साथ रहने में भी काफी दिक्कतें हो रही थी। ऐसे में बिहार सरकार ने देर से ही सही पर हम लोगों को अपने घर बुलाने का सराहनीय कार्य किया है।

सीवान पहुंची छात्रा बोली घर की बहुत याद आती थी

राजस्थान के कोटा से सीवान पहुंची छात्रा ने कहा, “वहां पर बहुत परेशानी हो रही थी। हमारे साथ के अन्य स्टूडेंस अपने घर चले गए थे। इधर घर से पापा- मम्मी फोन करते थे। जिससे मुझे बहुत परेशानी हो रही थी। घर के याद आती थी, अब यहां आकर मैं बहुत खुश हूं।